banner

केन्द्रीय मंत्री डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा, इसरो द्वारा सूचना, प्रणोदन और रोबोटिक्स / एआर / वीआर जैसे क्षेत्रों में प्रत्‍येक को अधिकतम 50 लाख रुपये के सहायता अनुदान के साथ छह स्टार्ट-अप का चयन और प्रोत्‍साहन

केन्‍द्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी; पृथ्वी विज्ञान; प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने आज बताया कि इसरो द्वारा सूचना, प्रणोदन और रोबोटिक्स / एआर / वीआर जैसे क्षेत्रों में प्रत्‍येक को अधिकतम 50 लाख रुपये के सहायता अनुदान के साथ छह स्टार्ट-अप का चयन और प्रोत्‍साहन दिया गया। 

लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में, डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने कहा, इसरो ने अटल इनोवेशन मिशन (एआईएम), नीति आयोग के साथ एएनआईसी-एआरआईएसई-1.0 कार्यक्रम शुरू किया जिसका उद्देश्य प्रौद्योगिकी आधारित नवाचारों की तलाश, चयन, समर्थन और पोषण करना है जो राष्ट्रीय महत्व की क्षेत्रीय चुनौतियां हल करते हैं। मंत्री ने कहा कि चौबीस स्टार्ट-अप ने अपने प्रस्ताव प्रस्तुत किए, जिनमें से छह स्टार्ट-अप का चयन किया गया और प्रत्येक को अधिकतम 50 लाख रुपये का सहायता अनुदान दिया गया।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री ने श्रीमती द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित होने पर बधाई दी

एएनआईसी-एआरआईएसई-1.0 में स्टार्ट-अप से परियोजना प्रस्ताव प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित अंतरिक्ष क्षेत्र की तीन चुनौतियां हैं: (i) भू-स्थानिक जानकारी, (ii) प्रणोदन और (iii) रोबोटिक्स / संवर्धित वास्तविकता / वर्चुअल रियलिटी।

एएनआईसी-एआरआईएसई-2.0 को अंतरिक्ष क्षेत्र की चार चुनौतियों के साथ शुरु किया गया है: (i) जीआईएस समाधान, (ii) प्रणोदन, (iii) नेविगेशन और (iv) अंतरिक्ष एप्लीकेशन के लिए एआई/एमएल मॉडलिंग, इन क्षेत्रों में स्टार्ट-अप से परियोजना प्रस्तावों की मांग करना। चयनित स्टार्ट-अप में प्रत्येक को अधिकतम 50 लाख रुपये का सहायता अनुदान दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें :   राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद कल वर्चुअल माध्यम से वर्ष 2019-20 के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) पुरस्कार प्रदान करेंगे

*****

एमजी/एएम/केपी/डीए

यह भी देखें :   Sawai Madhopur : ग्राम श्यामपुरा में भूमि जल स्तर बढ़ाने बनाये जा रहे मैजिक पिट

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें