banner

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने पायलट आधार पर परीक्षण के जरिए 4 राज्यों में राष्ट्रीय राजमार्गों के गुणवत्ता निरीक्षण के लिए मोबाइल इंस्पेक्शन वैन्स की सेवाएं लीं

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने पायलट आधार पर 4 राज्यों – गुजरात, राजस्थान, ओडिशा और कर्नाटक में गैर-विनाशकारी परीक्षण (एनडीटी) के जरिए राष्ट्रीय राजमार्गों के गुणवत्ता निरीक्षण के लिए मोबाइल इंस्पेक्शन वैन्स (एमआईवी) की सेवाएं ली हैं। ये वैश्विक गुणवत्ता मानकों के अनुरूप राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण की दिशा में मंत्रालय की प्रतिबद्धता का तौर पर किया गया है।

गुणवत्ता से जुड़े मुद्दों को पहचानने के लिए ज्यादा सक्रिय नजरिया शामिल करके, इन एमआईवी के इस्तेमाल से राष्ट्रीय राजमार्गों के कार्यों की मौजूदा गुणवत्ता नियंत्रण और गुणवत्ता स्वीकृति प्रणाली में इज़ाफा होगा।

यह भी पढ़ें :   केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने आज गुजरात के अहमदाबाद में 632 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले ओलिंपिक-स्तरीय स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का शिलान्यास किया

इन मोबाइल इंस्पेक्शन वैन्स का इस्तेमाल करके हर राज्य में हर तिमाही 2000 किमी राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का निरीक्षण किया जाएगा। एनएचएआई/एनएचआईडीसीएल/राज्य पीडब्ल्यूडी और एमओआरटीएच की अन्य एजेंसियों द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न परियोजनाओं का निरीक्षण किया जाएगा।

गुजरात के लिए अनुबंध समझौते पर आज हस्ताक्षर किए गए। राजस्थान, ओडिशा और कर्नाटक के लिए अनुबंध समझौते पर जल्द ही हस्ताक्षर किए जाएंगे। भविष्य में अन्य राज्यों में ऐसी और वैन लगाई जाएंगी।

यह भी पढ़ें :   वस्त्र मंत्रालय ने 160 करोड़ रुपये के कुल परिव्यय के साथ व्यापक हस्तशिल्प क्लस्टर विकास योजना को जारी रखने की मंजूरी दी

इन एमआईवी के जरिए पैदा हुए गैर-अनुरूपता के परीक्षण परिणामों और अलर्ट्स को एक गुणवत्ता नियंत्रण पोर्टल के जरिए रियल टाइम आधार पर विभिन्न हितधारकों के साथ साझा किया जाएगा। इस पोर्टल को एमओआरटीएच द्वारा विकसित किया जा रहा है।

 

****

एएम/एमजी/जीबी

यह भी देखें :   Live : विशाल कलश यात्रा ।

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें