आईजीएनसीए ने “पार्टीशन हारर्स रिम्‍बरेंस डे” ​​पर आज एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्‍द्र (आईजीएनसीए) ने “आजादी का अमृत महोत्सव” कार्यक्रम के तहत “पार्टीशन हारर्स रिम्‍बरेंस डे” ​​विषय पर आज नई दिल्ली में एक संगोष्ठी का आयोजन किया।

इस अवसर पर एकीकृत मानव दर्शन अनुसंधान और विकास संस्थान के अध्यक्ष महेश चंद्र शर्मा ने विनाशकारी विभाजन की भयावहता को याद किया। उन्होंने यह भी कहा कि विभाजन के दौरान कई लोगों की जान चली गई और तबाह हो गए। उन्होंने कहा कि विभाजन के परिणाम और उसका आघात आज तक महसूस और अनुभव किया जाता है।

यह भी पढ़ें :   चीफ कमिश्नर श्री आर्य ने राष्ट्रीय जम्बूरी की तैयारियों एवं रूपरेखा से कराया अवगत

संगोष्ठी में इतिहासकार श्री कृष्णानंद सागर ने कहा, अगस्त 1947 में भारत से अंग्रेजों के बाहर निकलने पर देश दो स्वतंत्र राज्यों में विभाजित हो गया। उन्होंने यह भी कहा कि भारत के विभाजन ने भारतीय उपमहाद्वीप में लाखों लोगों की जान ली।

सम्मेलन का आयोजन भारत के विभाजन की त्रासदी पर आम जनता के बीच जागरूकता पैदा करने के उद्देश्‍य से किया गया।

यह भी पढ़ें :   वेल्डिंग कार्य को तेज, ऊर्जा कुशल और पर्यावरण अनुकूल बनाने के लिए नई स्मार्ट मशीन

***

एमजी/एएम/केपी/सीएस

यह भी देखें :   सरपंच ने किया अतिक्रमण, पटवारी ने नोटिस तो जारी किया लेकिन कोई कार्यवाही नहीं

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें