banner

श्री गोयल ने भारतीय राष्ट्रीय भवन संहिता 2016 का उपयोग करने के लिए विद्युत प्रतिष्ठानों में सुरक्षा पर पुस्तिका और गाइड जारी की

केन्‍द्रीय वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य और सार्वजनिक वितरण तथा कपड़ा मंत्री, श्री पीयूष गोयल ने भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) की चौथी गवर्निंग काउंसिल की बैठक के दौरान, हाल ही में ” विद्यत संस्‍थानों में सुरक्षा – भारतीय राष्‍ट्रीय विद्युत संहिता द्वारा सुरक्षा का सर्वश्रेष्‍ठ विकल्‍प” विषय पर पुस्तिका और भारतीय राष्‍ट्रीय भवन संहिता 2016 का उपयोग करने के लिए गाइड जारी की। इन दो महत्वपूर्ण दस्तावेजों के साथ, अपने घर का निर्माण करते समय या बिल्डरों से घर खरीदते समय अपने अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए आम जनता के लिए तीन प्रचार पुस्तिकाएं भी तैयार की गई हैं।

विद्युत प्रतिष्ठानों में सुरक्षा पर पुस्तिका संयुक्त रूप से बीआईएस और इंटरनेशनल कूपर एसोसिएशन (आईसीए) इंडिया द्वारा तैयार की गई है। यह पुस्तिका विद्युत सुरक्षा के बारे में जागरूकता पैदा करेगी और इमारतों में वायरिंग करने के लिए तकनीकी गाइडेंस प्रदान करेगी। पुस्तिका में दिए गए डिजाइन, यंत्र आदि लगाने की जानकारी और अन्‍य विशेषताएं उद्देश्‍य तथा आवेदन को सरल तरीके से समझने में मदद करेगी। इससे इलेक्ट्रिकल इंजीनियरों और तकनीशियनों को सुरक्षित और विश्वसनीय कम विद्युत वोल्टेज की बुनियादी आवश्यकता एवं प्रक्रिया को समझने में मदद मिलेगी।

भारत की राष्ट्रीय भवन संहिता 2016 (एनबीसी 2016) एक तकनीकी दस्तावेज है जिसमें भवनों के नियोजन, डिजाइन, निर्माण और संचालन तथा रखरखाव से संबंधित सभी प्रावधानों को शामिल किया गया है। इन कोडल प्रावधानों का कार्यान्वयन सुरक्षा, स्वास्थ्य, सुविधा और इमारत के टिकाऊपन के लिए न्यूनतम आवश्यक स्तर सुनिश्चित करता है एनबीसी 2016 के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए, बीआईएस द्वारा सभी हितधारकों जैसे शिक्षाविदों, छात्रों, भवन प्राधिकरणों, बिल्डरों और सबसे महत्वपूर्ण इमारत के आर्किटेक्ट, इंजीनियरों, नलसाजों आदि के लिए कोड का उपयोग करने के लिए यह सरलीकृत गाइड लाई गई है ताकि वे संहिता के विभिन्न भागों/अनुभागों की विषय वस्‍तु और उनका आपसी संबंध समझने के लिए एनबीसी 2016 के इस्‍तेमाल को बढ़ावा दे सकें। 2200 से अधिक पृष्‍ठों की विशाल संहिता में दी गई तकनीकी जानकारी को आसानी से समझने के लिए, एनबीसी 2016 के 13 भागों की विषय वस्‍तु और अवधारणा को इन्फोग्राफिक्स तथा सरलीकृत भाषा का उपयोग करते हुए पुस्तिका में रखा गया है।

यह भी पढ़ें :   विद्युत क्षेत्र में सुधार के लिए प्रतिबद्ध राज्यों को बढ़ी हुई बाजार उधार राशि के जरिए प्रोत्साहित किया गया

तीन प्रचार पुस्तिकाएं न केवल नगर निकायों और वैधानिक प्राधिकरणों से, बल्कि सभी भवन निर्माण पेशेवरों (इंजीनियर, वास्तुकार, आदि) से भी बेहतर सेवाएं लेने के तरीकों पर मार्गदर्शन करेंगी, जिन्हें उन्हें एक सुरक्षित और टिकाऊ घर के लिए संलग्न करना चाहिए। इन प्रचार पुस्तिकाओं को हिन्‍दी और अंग्रेजी दोनों में प्रकाशित किया गया है और शीर्षक इस प्रकार हैं: गृहस्वामियों के लिए मार्गदर्शिका – श्रृंखला 1 भवन परमिट प्रक्रिया, गृहस्वामियों के लिए मार्गदर्शिका – श्रृंखला 2 अपने स्वतंत्र घर का निर्माण, गृहस्वामियों के लिए मार्गदर्शिका – श्रृंखला 3 एक डेवलपर/बिल्डर से अपार्टमेंट खरीदना।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री ने श्री जगदीप धनखड़ को भारत के उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने पर बधाई दी

फ्लोचार्ट और चेकलिस्ट की सहायता से, इन प्रचार पुस्तिकाओं में भवन निर्माण या उसे तैयार करने के लिए प्राधिकरण से परमिट प्राप्त करने की प्रक्रिया की व्याख्या की गई है, और घर खरीदने या निर्माण करते समय घर के मालिकों तथा घर खरीदारों को विभिन्न पहलुओं के बारे में उनका मार्गदर्शन भी करते हैं।

यह सुनिश्चित करने पर विशेष ध्यान दिया गया है कि इन गाइडों की सामग्री स्पष्ट प्रकृति की है ताकि आम जनता बीआईएस द्वारा तैयार किए गए मानकों की तकनीकी सामग्री और उपयोगिता को आसानी से समझ सके।

इन दस्तावेजों तक नीचे दिए गए लिंक की मदद से पहुंचा जा सकता है: –

गृहस्वामियों के लिए गाइड

Guide for Homeowners and Homebuyers

एनबीसी सरलीकृत गाइड

https://www.bis.gov.in/wp-content/uploads/2022/08/Booklet-Guide-for-Using-NBC- 2016.pdf

“विद्युत प्रतिष्ठानों में सुरक्षा – विद्यत संस्‍थानों में सुरक्षा – भारतीय राष्‍ट्रीय विद्युत संहिता द्वारा सुरक्षा का सर्वश्रेष्‍ठ विकल्‍प ” पर पुस्तिका

https://www.bis.gov.in/wp-content/uploads/2022/08/Handbook-_Electrical-safety-

_फाइनल.पीडीएफ

*****

एमजी/एएम/केपी/वाईबी

यह भी देखें :   Jaipur : ERCP का पैदल कारवां जयपुर पहुंचा, जयपुर पुलिस द्वारा कारवें को भटकाया जा रहा | Live – 4

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें