banner

श्री धर्मेंद्र प्रधान ने रामकृष्ण मिशन के ‘जागृति’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने पहली से पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए रामकृष्ण मिशन के ‘जागृति’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। रामकृष्ण मिशन, दिल्ली के सचिव वी. स्वामी शांतात्मानंदा, सीबीएसई की अध्यक्ष श्रीमती निधि छिब्बर और केवीएस, एनवीएस व मंत्रालय के अन्य अधिकारी भी अवसर पर उपस्थित थे।

इस अवसर पर बोलते हुए श्री प्रधान ने कहा कि एनईपी 2020 स्वामी विवेकानंद के दर्शन से गहराई से प्रेरित है। स्वामी विवेकानंद से लेकर श्री अरबिंदो और महात्मा गांधी तक, हमारे कई महान लोगों ने एक ऐसी शिक्षा प्रणाली की कल्पना की थी जो देश को आगे ले जाने के लिए प्रगतिशील हो और हमारे सभ्यतागत मूल्यों में निहित हो। उन्होंने कहा कि सामाजिक परिवर्तन शिक्षा के प्रमुख लक्ष्यों में से एक है। भौतिक धन से ज्यादा महत्वपूर्ण मूल्य और ज्ञान हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य के लिए तैयार और सामाजिक रूप से जागरूक पीढ़ी के निर्माण के लिए मूल्य आधारित शिक्षा बहुत महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें :   भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने रिन्यू एनर्जी ग्लोबल में सीपीपीआईबी द्वारा धारित वोटिंग के अधिकारों के अनुपात में वृद्धि को मंजूरी दी

उन्होंने आगे कहा कि रामकृष्ण मिशन के पास व्यावहारिक शिक्षा प्रदान करने की विरासत है। ऐसे वक्त में जब हम एनईपी 2020 को लागू कर रहे हैं, तब कक्षा एक से 8वीं तक के लिए कार्यक्रम बनाने के अलावा इसे 9वीं से 12वीं के लिए ऐसे ही मूल्य-आधारित शैक्षिक कार्यक्रम बनाने पर भी जोर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि ये अनूठी पहल एनईपी 2020 के दर्शन के अनुरूप एक बच्चे के समग्र व्यक्तित्व विकास को सुनिश्चित करने की दिशा में एक कदम है।

श्री प्रधान ने जोर देकर कहा कि हमारी शिक्षा प्रणाली को हमारी राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के अनुरूप होना चाहिए। हमें 21वीं सदी के ऐसे नागरिकों का निर्माण करना है जो वैश्विक जिम्मेदारियां निभाने में सक्षम हों। उन्होंने कहा कि छात्रों के लिए शिक्षक के नेतृत्व वाली समग्र शिक्षा प्रणाली पर ध्यान देने के साथ एनईपी 2020 उसी दिशा में उठाया एक कदम है।

यह भी पढ़ें :   राष्ट्रीय जल जीवन मिशन की टीम ने की राजस्थान के कार्यों की सराहना पांच जिलों की फील्ड विजिट के बाद अधिकारियों से साझा किए अनुभव

मंत्री महोदय ने सीबीएसई से आग्रह किया कि बालवाटिका से लेकर 12वीं कक्षा तक सभी स्कूलों में मूल्य-आधारित शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए एक परामर्श ढांचा स्थापित करें, ताकि एक ऐसा टैलेंट पूल तैयार किया जा सके जो जीवन की चुनौतियों का सामना करने को तैयार हो और राष्ट्रीय प्रगति व वैश्विक कल्याण के लिए प्रतिबद्ध हो।

*****

एमजी/एएम/जीबी/एसएस

यह भी देखें :   अब तीसरी आंख से रहेगी नजर : सुनील कुमार बिश्नोई जिला पुलिस अधीक्षक | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें