श्री आरके सिंह ने अग्नि तत्व अभियान की शुरूआत किए जाने पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया

 

 

नई दिल्ली स्थित नेहरू मेमोरियल संग्रहालय और पुस्तकालय में 21 सितंबर,2022 को ‘अग्नि तत्व- जीवन के लिए ऊर्जा’ पहल की शुरुआत पर एक समारोह आयोजित किया गया। यह सुमंगलम के अम्ब्रेला अभियान के तहत एक पहल है।

पावर फाउंडेशन ऑफ इंडिया ने विज्ञान भारती (विभा) के सहयोग से अग्नि तत्व की मूल अवधारणा के बारे में जागरूकता उत्पन्न करने के लिए समुदायों, शैक्षणिक संस्थानों व संबंधित संगठनों को शामिल करते हुए सेमिनार, कार्यक्रम और प्रदर्शनियों का आयोजन किया। अग्नि तत्व ऊर्जा का पर्याय है और पंचमहाभूत के पांच तत्वों में से एक है।

इस आउटरीच कार्यक्रम ने विषय के जानकारों और विशेषज्ञों के सीखने व अनुभवों पर विचार-विमर्श करने के साथ सभी के लिए एक टिकाऊ भविष्य को लेकर समाधान तलाशने के लिए एक मंच प्रदान किया है। इस पहल में स्वास्थ्य, परिवहन, उपभोग व उत्पादन, सुरक्षा, पर्यावरण और आध्यात्मिकता पर केंद्रित कई महत्वपूर्ण विषयों को शामिल किया गया।

पर्यावरण के लिए लाइफ- लाइफस्टाइल का विचार माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले साल ग्लासगो में आयोजित 26वें संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी-26) के दौरान सामने रखा गया था।

            

 

केंद्रीय ऊर्जा व नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री आरके सिंह ने इस कार्यक्रम को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने प्राकृतिक संसाधनों के अंधाधुंध उपयोग की कीमत पर जलवायु संकट और विकास के अभिशाप जैसे गंभीर मुद्दों पर चर्चा की। श्री सिंह ने कहा, “संसाधनों का दोहन हमारी संस्कृति का मूल नहीं है। हमारी जड़ें सादगी में निहित हैं। हम पर्यावरण के लिए अवचेतन रूप से लाइफ- लाइफस्टाइल जी रहे हैं। हम प्रकृति और उसके विभिन्न तत्वों की पूजा करते हैं। अब हमें पूरे विश्व में इस विचार प्रक्रिया को फैलाना है। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पहले ही इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है। अब हमारे सामने दोहरे उद्देश्य हैं- पहला हमें पश्चिम की आंखें मूंदकर नहीं देखना चाहिए। दूसरा, हमें अपने ज्ञान को विकसित राष्ट्रों के साथ साझा करना चाहिए, जिसे हमारे पूर्वजों ने आगे बढ़ाया है। जहां तक ऊर्जा रूपांतरण का सवाल है, भारत एक नेतृत्वकर्ता के रूप में उभरा है। हमने पेरिस में सीओपी-21 में यह संकल्प लिया था कि 2030 तक हमारी स्थापित विद्युत उत्पादन क्षमता का 40 फीसदी हिस्सा गैर-जीवाश्म से होगा, हमने इसे नौ साल पहले ही यानी नवंबर, 2021 में प्राप्त किया था। हमने संकल्प लिया था कि 2030 तक अपनी अर्थव्यवस्था की उत्सर्जन तीव्रता को 33-35 फीसदी तक कम कर देंगे। अब हम पहले से ही 40 फीसदी पर हैं, हम एक या दो साल में इस लक्ष्य प्राप्त कर लेंगे।”

यह भी पढ़ें :   राज्यपाल श्रीमती तमिलिसाई सौंदरराजन और केंद्रीय मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी, तेलुगू स्वतंत्रता सेनानियों पर आरओबी प्रदर्शनी देखने पहुंचे

भारत सरकार के विद्युत सचिव श्री आलोक कुमार ने कहा कि लोगों के बीच एक प्रचलित विचार है कि जिम्मेदार ऊर्जा रूपांतरण एक पश्चिमी अवधारणा है। उन्होंने कहा, “हमारे प्रधानमंत्री ने हाजिरजवाबी से कहा था कि भारत एक जिम्मेदार देश है, जिसकी जड़ें जिम्मेदार परंपराओं और मूल्यों में निहित है। सुमंगलम का पूरा अभियान यह महत्वपूर्ण संदेश देता है कि हमें जिम्मेदार ऊर्जा खपत की सदियों पुरानी परंपराओं को नहीं भूलना चाहिए। हमारा प्राथमिक ध्यान विद्यालय जाने वाले बच्चों पर होना चाहिए, जिससे उनके मस्तिष्क में टिकाऊ जीवन का विचार उत्पन्न हो सके।”

यह भी पढ़ें :   पांचवां बिम्सटेक शिखर सम्मेलन

पावर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के बारे में:

पावर फाउंडेशन ऑफ इंडिया, भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय के अधीन गठित एक सोसायटी है और प्रमुख सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रमों (सीपीएसई) द्वारा समर्थित है। फाउंडेशन रक्षा और अनुसंधान के क्षेत्रों में शामिल है, जो विकसित ऊर्जा परिदृश्य को सकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है।

***

एमजी/एएम/एचकेपी

यह भी देखें :   Gangapur City : पूर्व विधायक के साथ आक्रोशित व्यापारियों की भीड़ पहुंची कोतवाली | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें