banner

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय कल सांकेतिक भाषा दिवस मना रहा है

भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के तत्वावधान में भारतीय सांकेतिक भाषा अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र (आईएसएलआरटीसी), नई दिल्ली 23 सितंबर, 2022 सांकेतिक भाषा दिवस-2022 मना रहा है। यह कार्यक्रम सी.डी. देशमुख ऑडिटोरियम, इंडिया इंटरनेशनल सेंटर (आईआईसी), नई दिल्ली मे आयोजित होगा।

जब से संयुक्त राष्ट्र ने 23 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस घोषित किया है, तब से आईएसएलआरटीसी हर साल 23 सितंबर को इसे मनाता है। इस वर्ष गृह मंत्री की अध्यक्षता में राष्ट्रीय कार्यान्वयन समिति (एनआईसी) ने अन्य बातों के साथ-साथ सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय (दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग) द्वारा 23 सितंबर, 2022 को आयोजित और मनाए जाने वाले ‘सांकेतिक भाषा दिवस’ ​​कार्यक्रम को ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ उत्सव के तहत मंजूरी दी है। इस महत्वपूर्ण समारोह के अवसर पर, डीईपीडब्ल्यूडी/सीआरसी/आरसी/एसोसिएटेड एनजीओ/बधिर स्कूलों के तहत सभी एनआई को सलाह दी गई है कि वे अपने संबंधित संगठनों के भीतर और बाहर सांकेतिक भाषा दिवस मनाने के लिए विभिन्न गतिविधियों का संचालन करें ताकि अधिकतम जन भागीधारी हो सके। दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग और आईएसएलआरटीसी हमारे समाज के सभी वर्गों के बीच भारतीय सांकेतिक भाषा के बारे में सकारात्मक जागरूकता पैदा करने के लिए अधिक से अधिक नागरिकों, हितधारकों, सेवा प्रदान करने वाली एजेंसियों, बधिर स्कूलों, गैर सरकारी संगठनों, कार्यकर्ताओं, बधिर नेताओं, शिक्षकों, शोधकर्ताओं आदि को एक साथ लाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत सांकेतिक भाषा दिवस-2022 मनाने के लिए कार्य योजना के अनुसार लगभग 3,200 संगठनों/संस्थानों को शामिल किया गया है। बड़े पैमाने पर सांकेतिक भाषा दिवस समारोह का उद्देश्य आम जनता को भारतीय सांकेतिक भाषाओं के महत्व और सुनने में अक्षम व्यक्तियों के लिए सूचना और संचार सुलभता के बारे में जागरूक करना है। सांकेतिक भाषा न केवल लोगों को शिक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, बल्कि सुनने में अक्षम व्यक्तियों के लिए रोजगार और व्यावसायिक प्रशिक्षण के सृजन में भी महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें :   अविलम्ब कृषि कौशल विकास कार्यक्रम शुरू करे - जसकौर

इस वर्ष सांकेतिक भाषा दिवस-2022 का विषय “साइन लैंग्वेज यूनाइट अस” है। डब्ल्यूएफडी के अनुसार, इस दिन, हम एक साथ बधिर लोगों के लिए एक आवश्यक मानव अधिकार के रूप में सांकेतिक भाषाओं के समर्थन की घोषणा पर हस्ताक्षर करते हैं, और मानव अधिकारों के लिए हस्ताक्षर करते हैं! इस दिन, दुनिया भर में विभिन्न राष्ट्रीय सांकेतिक भाषाओं को पहचानने और बढ़ावा देने के लिए बधिर समुदायों, सरकारों और नागरिक समाज के प्रतिनिधियों के सामूहिक प्रयास किए जाते हैं।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री, कुमारी प्रतिमा भौमिक मुख्य अतिथि होंगी और शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती अन्नपूर्णा देवी विशिष्ट अतिथि होंगी। श्री। राजेश अग्रवाल, सचिव, डीईपीडब्ल्यूडी, और श्री राजेश यादव, संयुक्त सचिव, डीईपीडब्ल्यूडी और निदेशक, आईएसएलआरटीसी, और श्री ए.एस. नारायणन, अध्यक्ष, नेशनल एसोसिएशन ऑफ डेफ भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम के दौरान, निम्नलिखित सामग्री लॉन्च की जाएगी:

इंडियन साइन लैंग्वेज डिक्शनरी ऐप का लॉन्च: आईएसएलआरटीसी ने 17 फरवरी, 2021 को इंडियन साइन लैंग्वेज डिक्शनरी लॉन्च की। इस डिक्शनरी का इस्तेमाल बधिर लोगों, विशेष शिक्षकों, बधिर बच्चों के माता-पिता, भाषाविदों, शोधकर्ताओं, इंटरप्रेटर्स आदि द्वारा किया जा रहा है और इसकी लोकप्रियता प्रत्येक दिन बढ़ती जा रही है। अब इस आईएसएल डिक्शनरी को आसानी से उपलब्ध और अधिक सुलभ बनाने के लिए, आईएसएलआरटीसी ने इंडियन साइन लैंग्वेज डिक्शनरी ऐप के विकास के लिए फेडरल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (एफआईएसएटी), केरल के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) में साइन किया है, जिसके परिणामस्वरूप यह ऐप तैयार हुआ है। साइन लर्न के नाम से जाना जाने वाला यह ऐप प्रोग्राम के दौरान लॉन्च किया जाएगा।

आईएसएलआरटीसी और एनसीईआरटी द्वारा संयुक्त रूप से विकसित भारतीय सांकेतिक भाषा में एनसीईआरटी कक्षा 6 की पुस्तकों की ई-सामग्री का शुभारंभ: आईएसएलआरटीसी और एनसीईआरटी कक्षा I से XII पाठ्यपुस्तकों को सुनने में अक्षम बच्चों के लिए सुलभ बनाने के लिए भारतीय सांकेतिक भाषा (डिजिटल प्रारूप) में परिवर्तित करने के लिए 6 अक्टूबर, 2020 को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस वर्ष एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों की छठी कक्षा पूरी हो चुकी है और कार्यक्रम के दौरान आईएसएल में ई-सामग्री शुरू की जाएगी।

यह भी पढ़ें :   भारत ने अमेरिका के पिट्सबर्ग, पेंसिल्वेनिया में हुए “ग्लोबल क्लीन एनर्जी एक्शन फोरम- 2022” में स्वच्छ ऊर्जा नवाचारों को बढ़ावा देकर निम्न कार्बन वाले भविष्य के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत, केंद्र ने वीरगाथा श्रृंखला पर नेशनल बुक ट्रस्ट की चयनित पुस्तक को भारतीय सांकेतिक भाषा में परिवर्तित किया है। कार्यक्रम के दौरान भारतीय सांकेतिक भाषा में ई-कंटेंट भी लॉन्च किया जाएगा।

आईएसएलआरटीसी और एनसीईआरटी के संयुक्त प्रयास से भारतीय सांकेतिक भाषा में कुल 500 शैक्षणिक शब्द विकसित किए गए हैं। इन अकादमिक शब्दों का चयन एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों से किया गया है। भारतीय सांकेतिक भाषा में शैक्षिक शब्द बधिर विशेषज्ञों द्वारा विकसित किए गए हैं और जिनकी वैधता भी बधिर समुदाय द्वारा स्थापित की गई है। ये 500 अकादमिक शब्द माध्यमिक स्तर पर उपयोग किए जाने वाले शब्द हैं, जो अक्सर इतिहास, विज्ञान, राजनीति विज्ञान, गणित में उपयोग किए जाते हैं। कार्यक्रम के दौरान भारतीय सांकेतिक भाषा की 500 नई अकादमिक टर्म्स भी लॉन्च की जाएंगी।

केंद्र ने 5वीं भारतीय सांकेतिक भाषा प्रतियोगिता, 2022 का भी आयोजन किया। यह एक राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता जो सुनने में अक्षम छात्रों और इंटरप्रेटर्स के लिए आयोजित की जाती है। प्रतियोगिता में भाग लेकर छात्रों ने अपनी रचनात्मकता और ज्ञान का प्रदर्शन किया। 5वीं आईएसएल प्रतियोगिता के सभी विजेताओं को कार्यक्रम के दौरान ट्रॉफी और प्रमाण-पत्र वितरित किए जाएंगे।

*****

 

एमजी/एएम/पीके/डीए

यह भी देखें :   सैनी समाज की 12 प्रतिशत आरक्षण व 11 सूत्री मांगो को लेकर विशाल रैली व मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें