banner

श्री देवुसिंह चौहान रोमानिया के बुखारेस्ट में पूर्णाधिकार सम्मेलन 2022 में भाग लेने के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे

संचार राज्य मंत्री श्री देवुसिंह चौहान  बुखारेस्ट, रोमानिया में आईटीयू (अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार यूनियन) के पूर्णाधिकार सम्मेलन 2022 (पीपी -22) में भाग लेने के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे और आईटीयू परिषद के 2022 के 24 सितंबर से 14 अक्टूबर, 2022 तक चलने वाले सत्र की अंतिम बैठक में भाग लेंगे।  सम्मेलन के दौरान, 2023-26 की अवधि के लिए अगली आईटीयू परिषद का गठन करने के लिए सदस्य देशों के बीच चुनाव होंगे। महासचिव, उप महासचिव, ब्यूरो के निदेशकों के साथ-साथ आईटीयू के रेडियो विनियमन बोर्ड के सदस्यों के चुनाव भी इस दौरान होने हैं।

भारत ने अगली आईटीयू परिषद के सदस्य के रूप में फिर से निर्वाचित होने के लिए अपनी उम्मीदवारी रखी है। दूरसंचार विभाग की वरिष्ठ अधिकारी  श्रीमती एम. रेवती को भी सदस्य, रेडियो विनियमन बोर्ड के पद के लिए चुनाव में उतारा गया है।

संचार राज्य मंत्री “बिल्डिंग ए बेटर डिजिटल फ्यूचर फॉर ऑल ” पर मंत्रिस्तरीय गोलमेज बैठक में भाग लेंगे, जहां वह पिछले दशक के दौरान दूरसंचार के क्षेत्र में भारत द्वारा की गई तेज उन्नति को सबके सामने रखेंगे। इसमें देश में कमर्शियल 5जी मोबाइल सेवाओं की जल्द होने वाली शुरूआत, 2023 के अंत तक पहुंच से बाहर सभी गांवों को मोबाइल सेवाएं प्रदान करना, सभी 6.4 लाख गांवों में ऑप्टिकल फाइबर का विस्तार और आत्मनिर्भर भारत पहल के तहत पूरी तरह से स्वदेशी 4G स्टैक और 5G स्टैक के विकास की जानकारी देना शामिल होगा।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कोच्चि में भारत के पहले स्वदेशी विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रांत को राष्ट्र-सेवा में समर्पित किया

श्री चौहान भारत सरकार के एक प्रमुख कार्यक्रम, डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के बारे में भी बात रखेंगे, जो भारत को डिजिटल रूप से सशक्त समाज और जानकारियों से युक्त अर्थव्यवस्था में बदलने के लिए फेसलेस, पेपरलेस और कैशलेस कार्यप्रणाली पर जोर देता है। भारत की डिजिटल भुगतान प्रणाली की मजबूती और लोकप्रियता पूरी दुनिया के लिए एक बेहतरीन केस स्टडी है। इन सब के अतिरिक्त, वह कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लिए को-विन की सफलता, आधार-विशिष्ट पहचान संख्या, ऑनलाइन शिक्षा के लिए दीक्षा, बैंकिंग के लिए यूपीआई, उमंग एप जो 200 से अधिक ई-गवर्नेंस सेवाएं प्रदान करता है और गांवों में ई-गवर्नेंस की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए मौजूद एक लाख से अधिक कॉमन सर्विस सेंटर पर भी प्रकाश डालेंगे। 

यह भी पढ़ें :   उपराष्ट्रपति ने युवाओं में राष्ट्रवादी मूल्यों को विकसित करने का आह्वान किया

माननीय मंत्री राष्ट्रमंडल मंत्रिस्तरीय गोलमेज बैठक के साथ-साथ प्रतिनिधिमंडल के प्रमुखों की बैठक में भाग लेंगे। वह भारत की ओर से “कनेक्ट एंड यूनाइट” पर एक नीति वक्तव्य भी देंगे। मौजूदा सहयोग को गहरा करने और आपसी हित के नए क्षेत्रों में सहयोग की संभावनाओं का पता लगाने के लिए आयोजन के दौरान विभिन्न मित्र देशों के साथ कई द्विपक्षीय बैठकें भी निर्धारित की गई हैं।

 

***

एमजी/एएम/एसएस

 

यह भी देखें :   Live :फव्वारे से मज़्ज़िद तक रास्ता बन्द ।

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें