कौशल समृद्धि और अवसरों का पासपोर्ट है: राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने जम्मू-कश्मीर में छात्रों एवं उद्यमियों को संबोधित किया

केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता तथा इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री श्री राजीव चंद्रशेखर ने आज कहा कि भारतीय युवाओं को रोजगार या/और उद्यमिता के अवसरों के लिए प्रासंगिक बने रहने हेतु बदलते समय के अनुरूप स्वयं को कौशल से संपन्न करना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री ने रामबन जिले के चंद्रकोट में गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज में छात्रों और कर्मचारी सदस्यों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कौशल समृद्धि तथा अवसरों का पासपोर्ट है। श्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ भविष्य के लिए प्रासंगिक कौशल होना आवश्यक है, जिससे रोजगार या उद्यमिता के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धी बने रहना आसान हो सकेगा।

श्री चंद्रशेखर ने कहा कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का ही दृष्टिकोण था, जिसके अनुसार सभी के लिए कौशल के अवसर उपलब्ध होने चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार अब छात्रों/युवा उद्यमियों को विभिन्न मौकों का लाभ उठाने के लिए अल्पकालिक व दीर्घकालिक दोनों तरह के 5000 कौशल कार्यक्रम उपलब्ध करा रही है। राज्य मंत्री ने कहा कि पाठ्यक्रम को बदल दिया गया है और भविष्य को ध्यान में रखते हुए नये पाठ्यक्रम जोड़े गए हैं, क्योंकि आने वाले दिनों में तेजी से बदलते तकनीकी माहौल के साथ कौशल की मांग में भी बदलाव देखने को मिलेगा।

यह भी पढ़ें :   इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क की घोषणा के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

श्री चंद्रशेखर ने इस तथ्य का उल्लेख किया कि विकास के प्रति प्रधानमंत्री का विचार सबका साथ, सबका विश्वास और सबका प्रयास का रहा है। उन्होंने कहा कि महामारी के बाद अन्य विकसित देशों की तुलना में प्रधानमंत्री के नेतृत्व में न्यू इंडिया दुनिया में बहुत अच्छे से फल-फूल रहा है। राज्य मंत्री ने कहा कि भारत, वर्ष 2026 तक एक ट्रिलियन अमरीकी डॉलर की डिजिटल अर्थव्यवस्था/पांच ट्रिलियन अमरीकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लक्ष्य पर कार्य कर रहा है।

राज्य मंत्री ने पॉलिटेक्निक कॉलेज के छात्रों एवं कर्मचारी सदस्यों द्वारा आयोजित एक कौशल प्रदर्शनी का भी दौरा किया और राज्य के तकनीकी, ऑटोमोटिव, इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों से लेकर पारंपरिक कला / शिल्प वस्तुओं तक के अभिनव प्रदर्शनों की प्रशंसा की।

इसके बाद श्री राजीव चंद्रशेखर ने रामबन में एक रोजगार मेले का उद्घाटन किया, जिसमें उन्होंने नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं और भर्ती करने वाले नियोक्ताओं के साथ बातचीत की। उन्होंने पात्र उम्मीदवारों को नियुक्ति पत्र और प्रशिक्षण पूरा करने वालों को प्रमाण पत्र भी वितरित किए। राज्य मंत्री ने कहा कि नौकरियां उपलब्ध अवसरों के लिए महत्वपूर्ण निर्धारक हैं तथा हम यह सुनिश्चित करेंगे कि अगले छह महीने में यहां होने वाला रोजगार मेला वर्तमान से तीन गुना बड़ा हो, जिसमें कई और कंपनियां शामिल होंगी। श्री चंद्रशेखर ने कहा कि हम सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों से स्थानीय रूप से उपलब्ध कुशल प्रतिभाओं को अनिवार्य रूप से अवसर प्रदान करने का अनुरोध करेंगे।

यह भी पढ़ें :   केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने आईआईएसईआर, मोहाली में 'रन फॉर यूनिटी' को झंडी दिखाकर रवाना किया

राज्य मंत्री ने रामबन जिले की विभिन्न कौशल विकास योजनाओं की समीक्षा की, इस संबंध में रामबन के जिला विकास आयुक्त श्री मुसरत इस्लाम द्वारा विस्तृत प्रस्तुति दी गई। श्री चंद्रशेखर ने अधिकारियों के साथ स्थानीय रूप से उपलब्ध अवसरों के साथ कौशल पारिस्थितिकी तंत्र में सुधार के तरीकों पर चर्चा की।

श्री राजीव चंद्रशेखर ने रामबन में एक समारोह के दौरान दिव्यांग लाभार्थियों को मोटर साइकिल और स्कूटी वितरित कीं। कार्यक्रम में मुमकिन/तेजस्वनी योजना के लाभार्थियों को भी वाहन की चाभी प्रदान की गई।

राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर आज सुबह जम्मू पहुंचे थे, जहां पर राज्य सरकार और कौशल विकास विभाग के अधिकारियों के एक समूह ने उनका स्वागत किया। इस दौरान कौशल विकास निदेशक श्री सुदर्शन और आरडीएसडीई क्षेत्रीय निदेशक श्री एस शांतिमलाना शामिल थे।

एमजी/एएम/एनके/वाईबी