फिल्म निर्माण का कार्य फुटबॉल की तरह है, इसमें टीम का हर सदस्य महत्वपूर्ण है: 53वें आईएफएफआई में आयोजित मास्टर क्लास

अद्वैत ने इस विषय पर अपनी बात रखते हुए कहा कि एक्टर्स के साथ काम करना बेहद अलग तरह का अनुभव होता है क्योंकि सभी अलग अलग प्रतिभाओं से भरे होते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई डायरेक्टर अपने अभिनेताओं और क्रू मेंबर्स से सही में प्यार करता है तो वह टीम की खामियों में सुधार करता हुआ आगे बढ़ता है। उन्होंने अच्छा क्रू पाने की तुलना अच्छा पार्टनर पाने से की। उन्होंने आगे कहा, “फिल्म एक शादी की तरह है। आपको अपने क्रू पार्टनर के साथ सम्मान और प्यार से पेश आना होता है। कभी आपको उनका साथ मिलेगा तो कभी-कभी आप अलग हो जाएंगे। आप सहमत होंगे, असहमत होंगे, बहस करेंगे और लड़ेंगे भी। लेकिन आप या तो दूसरे व्यक्ति को राजी कर लेंगे या खुद को राजी कर लेंगे।”

स्क्रिप्ट राइटिंग प्रक्रिया में लेखक के ब्लॉक को ‘अनब्लॉक’ करने के टिप्स साझा करते हुए, शूजीत ने कहा कि निर्देशक और लेखक को बातचीत करने और इसे प्राप्त करने के लिए स्क्रिप्ट के बाहर भी लीक से हटकर बात करने और चर्चा करने में बहुत समय बिताने की आवश्यकता होती है। आमिर खान से उनकी सीख पर सवाल का जवाब देते हुए, अद्वैत चंदन ने कहा कि आमिर सचमुच एक फिल्म स्कूल है जहां से नए फिल्म निर्माताओं को बहुत कुछ सीखने को मिलता है। उन्होंने यह भी कहा कि “आमिर बहुत खुले और ग्रहणशील हैं। वह वास्तव में अपनी टीम और उनकी प्रतिक्रिया को सुनते हैं”।

यह भी पढ़ें :   पंजाब विधानसभा आम चुनाव-2022 पंजीकृत मतदाताओं को मतदान दिवंस पर संवैतनिक अवकाश

निर्देशकों ने फिल्मों की टेस्ट स्क्रीनिंग के विचार पर विपरीत विचार साझा किए। जबकि अद्वैत ने कहा कि फिल्मों के बारे में दर्शकों से प्रतिक्रिया लेना अच्छा है, शूजीत ने कहा कि वे इस विचार के पूरी तरह से खिलाफ हैं। उन्होंने कहा, “दर्शक मेरी फिल्म की आखिरी चीज है। मेरे लिए महत्वपूर्ण बात यह है कि मेरे पास जो कहानी है उसमें एक विजन है। मैंने जो किया है या बनाने का प्रयास किया है, उसके लिए मुझसे बेहतर कोई जज नहीं है”। उन्होंने आगे कहा कि फिल्मों को गंभीरता से लेने वाले दर्शक ही मेरी फिल्में देखें।

यह भी पढ़ें :   उपभोक्ताओं के लिए बिजली खरीद की लागत को कम करने के लिए बाजार आधारित आर्थिक प्रेषण (एमबीईडी ) के कार्यान्वयन के लिए पहले चरण का ढांचा जारी किया गया

शूजीत सरकार ने अगली फिल्म को लेकर लोगों की उम्मीदों से बढ़ते दबाव की धारणा को भी खारिज कर दिया। उन्होंने कहा, “दबाव न तो लोगों से है, न ही इंडस्ट्री से, बल्कि खुद से है। मैंने कुछ बुरी फिल्में बनाईं। मैंने लाखों गलतियाँ की थीं। फिल्म दर फिल्म, मैं इन गलतियों को सुधारने की पूरी कोशिश करता हूं”। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि एक निर्माता का काम अधिक पैसा बनाने के लिए फिल्मों में निवेश करना नहीं है, बल्कि फिल्म निर्माण की प्रक्रिया में रचनात्मक रूप से निवेश करना है।

यह भी देखें :   Gangapur City : सचिन पायलेट के स्वागत के लिए गंगापुर रेलवे स्टेशन पर उमड़ा जन सैलाब | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें