अभिनय मेरा सब कुछ है, यह मेरा जीवन है: 53वें इफ्फी के ‘इन-कन्वर्सेशन’ सत्र में नवाजुद्दीन सिद्दीकी

नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने कहा, “यदि आपको शून्य से शुरुआत करनी है, तो आपको सबसे पहले उसे भूलना होगा जो अब तक आपने सीखा है।” बॉलीवुड की कुछ प्रमुख फिल्मों, जैसे ब्लैक फ्राइडे, न्यूयॉर्क, पीपली लाइव, कहानी और गैंग्स ऑफ वासेपुर के सम्मानित अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने आज ‘एक अभिनेता के रूप में यात्रा’ विषय पर ‘इन-कन्वर्सेशन’ सत्र को संबोधित किया। यह सत्र, 20 से 28 नवंबर, 2022 तक गोवा में चल रहे 53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) के तहत आयोजित किया गया।   

53वें इफ्फी के ‘इन-कन्वर्सेशन’ सत्र में फिल्म अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी

एक अभिनेता बनने की अपनी यात्रा के बारे में बताते, उन्होंने कहा कि एक स्थानीय कॉलेज से स्नातक होने के बाद, उन्होंने थोड़े समय के लिए एक पेट्रोकेमिकल कंपनी में एक केमिस्ट के रूप में काम किया। हालांकि, अभिनेता बनने के सपने को पूरा करने के लिए वह थिएटर से जुड़ गए। आखिरकार, उन्हें राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी), दिल्ली में दाखिला मिला।

अपने करियर के शुरुआती दिनों में उनके संघर्षों और चुनौतियों के बारे में पूछे जाने पर, नवाज़ुद्दीन ने बताया कि उन्हें छोटी भूमिकाओं की पेशकश की गई, जिसे उन्हें स्वीकार करना पड़ा क्योंकि उनके पास कोई अन्य विकल्प नहीं था और उन्हें इस फिल्म जगत में बने रहना था। उन्होंने कहा, “कठिन समय ही आपको मजबूत बनाता है।”

यह भी पढ़ें :   केंद्र सरकार के आठ साल पूरे होने पर डीडी न्यूज कॉन्क्लेव की आज से शुरुआत हुई

गैंग्स ऑफ वासेपुर उनके अभिनय करियर का एक महत्वपूर्ण मोड़ कैसे साबित हुआ, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस फिल्म ने उन्हें खुद पर विश्वास करने पर मजबूर कर दिया। उन्होंने कहा, “मुझे विश्वास था कि इसके बाद मेरे संघर्ष खत्म हो जाएंगे और लोग इस फिल्म की सराहना करेंगे।”

नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने नेटफ्लिक्स और अन्य ओटीटी प्लेटफॉर्म पर वेब-सीरीज में काम करने के अपने अनुभव को भी साझा किया। उन्होंने कहा कि शुरुआत में वह ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर सीरीज में काम करने से झिझक रहे थे क्योंकि उन्हें उनके बारे में कोई जानकारी नहीं थी। हालांकि अनुराग कश्यप ने उन्हें इन प्लेटफॉर्म पर काम करने के लिए मना लिया। गौरतलब है कि सेक्रेड गेम्स वेब सीरीज नेटफ्लिक्स पर काफी हिट हुई थी।

यह भी पढ़ें :   भारत ने अहम पड़ाव हासिल किया, अब तक 75 हजार से अधिक स्टार्ट-अप्स मान्य

नवाज़ुद्दीन ने बायोपिक फिल्मों में बहुमुखी भूमिकाएं निभाने के बारे में अपने अनुभव को भी साझा किया, जहां मंटो में उन्होंने प्रमुख उर्दू लेखक सआदत हसन मंटो का किरदार निभाया, तो ठाकरे में उन्होंने भारतीय राजनेता बाल ठाकरे की भूमिका निभाई।

यह पूछे जाने पर कि उन्हें रोजाना काम करने की प्रेरणा और ऊर्जा कहां से मिलती है, नवाजुद्दीन ने कहा कि अभिनय मेरा शौक है और मैं इससे नहीं थकता। उन्होंने आगे कहा,  “अभिनय मेरा सब कुछ है, यह मेरा जीवन है। यहां तक कि एक जीवन अभिनय के लिए मेरी प्यास बुझाने के लिए काफी नहीं है।”

सत्र के दौरान अभिनेता ने अपनी आगामी फिल्म हड्डी में ट्रांसजेंडर के रूप में अपनी भूमिका पर कुछ किस्से भी साझा किए।

***

एमजी/एएम/जेके/केसीवी/एसके

 

यह भी देखें :   Gangapur City : 10वीं का 15 वर्षीय परीक्षार्थी बालक हुआ लापता | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें