banner

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय तथा विदेश मंत्रालय द्वारा भारत के उच्चायुक्तों/राजदूतों के लिये विशेष ‘मिलेट लंचन’ की संयुक्त मेजबानी

भारत में ‘इंटरनेशन इयर ऑफ मिलेट्स 2023’ (अंतर्राष्ट्रीय कदन्न वर्ष – आईवाईओएम) विषय पर वर्ष भर चलने वाले भव्य समारोह के आरंभ होने के पहले कृषि एवं किसान कल्याण विभाग तथा विदेश मंत्रालय विभिन्न देशों में नियुक्त भारतीय उच्चायुक्तों व राजदूतों के लिये कल नई दिल्ली में एक विशेष ‘मिलेट लंचन’ (मोटे अनाज से बने व्यंजनों का दोपहर का भोज) की मेजबानी कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि मोटे अनाजों के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने, उत्पादन व उत्पादकता बढ़ाने तथा मोटे अनाज की खपत में बढ़ोतरी करने के लिये कदन्न मूल्य श्रृंखला को मजबूत बनाने की दिशा में संयुक्त राष्ट्र आम सभा ने भारत के प्रस्ताव को मंजूर करते हुये वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय कदन्न वर्ष घोषित किया था। आईवाईओएम 2023 को मनाये जाने के क्रम में भारत नेतृत्व कर रहा है। इस कार्य को जन आंदोलन का रूप देकर प्रधानमंत्री की परिकल्पना के अनुरूप भव्य रूप में पूरा किया जा रहा है।

आशा की जाती है कि 60 से अधिक देशों में नियुक्त भारत के उच्चायुक्त/राजदूत गुरुवार को आयोजित होने वाले राजकीय मध्याह्न भोज में सम्मिलित होंगे। मध्याह्न भोज के आयोजन का मुख्य उद्देश्य भारतीय मोटे अनाजों के बारे में जागरूकता पैदा करना तथा आईवाईओएम 2023 के सफल व प्रभावी वैश्विक आयोजन के लिये अन्य देशों को संलग्न करना है।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री ने श्यामजी कृष्ण वर्मा को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी

कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर और विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर आईवाईओएम 2023 की सफलता के लिये परिकल्पना को साझा करेंगे।

उपभोक्ताओं, किसानों और धरती माता पर मोटे अनाजों का क्या चामत्कारिक प्रभाव पड़ता है, इसके बारे में एक वीडियो आरंभ में प्रस्तुत किया जायेगा, ताकि प्रतिनिधियों को‘सुपर ग्रेन’ की विजुअल यात्रा नजर आये।

दोपहर के भोज में मोटे अनाज से बने विभिन्न व्यंजन होंगे, जिनसे भारत के मोटे अनाजों और मोटे अनाज की पाक कला का परिचय मिलेगा। मोटे अनाज के व्यंजनों का अनुभव लेने के साथ-साथ मोटे अनाज से जुड़े लगभग 30 भारतीय स्टार्ट-अप के साथ बातचीत भी होगी। ये सभी प्रदर्शनी में हिस्सा लेंगे और अपने विभिन्न खाद्य उत्पादों को पेश करेंगे, जिनमें उन भोजन को भी शामिल किया जायेगा जो सीधे पकाये जा सकते हैं और खाये जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें :   राष्ट्रव्यापी कोविड टीकाकरण के तहत अब तक 181.24 करोड़ से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं

भारत सरकार द्वारा समारोह आरंभ होने के पहले के कार्यक्रम को बड़े पैमाने पर आयोजित किया जा रहा है। इसके लिये योजना बनाई गई है कि अपेडा और विदेश मंत्रालय के जरिये कुल 23 अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम किये जायें। अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों में बी2बी, बी2जी और जी2जी संवाद सहित बहु-हितधारक सहयोग को प्रोत्साहन दिया जायेगा तथा कदन्न आधारित मूल्य संवर्धित उत्पादों को दर्शाया जायेगा। भारतीय समुदाय, भारतीय राजदूतावास, शेफ, मीडिया और आम जनता मोटे अनाजों तथा आईवाईओएम 2023 को प्रोत्साहित करने में प्रमुख भूमिका निभायेंगे।

****

एमजी/एएम/एकेपी/डीके-

यह भी देखें :   Gangapur City : टक्कर से घायल, लोगो में आक्रोश, लगाया जाम, पुलिस पर फूटा गुस्सा | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें