सेबी की अध्यक्ष ने धोखाधड़ी से बचने के लिए प्रौद्योगिकी संचालित तीसरे-पक्ष द्वारा सत्यापन पर जोर दिया

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड की अध्यक्ष सुश्री माधबी पुरी बुच ने आज धोखाधड़ी से बचने के लिए प्रौद्योगिकी संचालित तीसरे-पक्ष द्वारा सत्यापन पर जोर दिया। वह मुंबई में भारतीय लेखापरीक्षा तथा लेखा विभाग द्वारा आयोजित लेखापरीक्षा सप्ताह के समापन समारोह को संबोधित कर रही थीं। इस वर्ष देश भर में भारतीय लेखापरीक्षा तथा लेखा विभाग के विभिन्न कार्यालयों द्वारा दूसरे लेखापरीक्षा दिवस को मनाने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए गए।

 

लेखा परीक्षा की प्रक्रिया में तीसरे पक्ष के सत्यापन की पुरजोर हिमायत करते हुए, सेबी की अध्यक्ष ने कहा कि हम जो कुछ भी प्रस्तुत करते हैं, उसकी सच्ची और निष्पक्ष तस्वीर सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका तीसरे पक्ष द्वारा सत्यापन है। उन्होंने कहा,“तीसरे पक्ष द्वारा सत्यापन पर सेबी का जोर बाजारों में जो कुछ भी प्रस्तुत किया गया है, उसकी सच्ची और निष्पक्ष तस्वीर सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता से प्रेरित है”।

 

सेबी की अध्यक्ष ने कहा कि देश में 20 से अधिक वेबसाइटें हैं जिनका उपयोग लेखा परीक्षक लेखा परीक्षिती के दावे को सत्यापित करने के लिए कर सकते हैं। उन्होंने कहा, “जहां धोखाधड़ी करने वाले लोगों द्वारा प्रौद्योगिकी को एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है, वहीं हम धोखाधड़ी से बचने के लिए उसी तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। लेखा परीक्षक तीसरे पक्ष द्वारा सत्यापन के लिए जीएसटीएन पोर्टल, बैंक वेबसाइटों आदि जैसे उपकरणों का उपयोग कर सकते हैं।”

यह भी पढ़ें :   केंद्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) को और चार महीने (दिसंबर 2021-मार्च 2022) तक विस्तार देने को मंजूरी दी

‘शासन में पारदर्शिता और जवाबदेही की भूमिका’ पर बोलते हुए, सेबी की अध्यक्ष ने कहा कि  अगर बाजार में पारदर्शिता है, तो बाजार की ताकतें खुद ही एक कुशल तरीके से कार्य करती हैं और यह सुनिश्चित करती हैं कि बाजार में कोई गलत काम नहीं हो। उन्होंने कहा, “एक नियामक के रूप में, सेबी पूरे बाजार की सच्ची और निष्पक्ष तस्वीर के लिए जिम्मेदार है, यही कारण है कि हम पारदर्शिता पर जोर देते हैं। एक कुशल बाजार का आधार यह है कि वहां कोई सूचना संबंधी विषमता नहीं हो।”

लेखा परीक्षकों के काम की सराहना करते हुए, सेबी के अध्यक्ष ने कहा, “एक व्यवसाय के नेतृत्वकर्ता या एक संस्थान के नेतृत्वकर्ता के रूप में, हमारी जिम्मेदारी यह सुनिश्चित करना है कि कोई चूक न हो और कोई गलती न हो”। उन्होंने कहा कि लेखा परीक्षक हमें इस लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करते हैं और हमारे मन की शांति सुनिश्चित करते हैं।

समारोह में भाग लेने वाले लेखा परीक्षकों को प्रोत्साहित करते हुए, सेबी की अध्यक्ष ने कहा कि वह लेखा परीक्षकों को स्वतंत्र सलाहकार मानती हैं। उन्होंने कहा, “किसी भी प्रकटीकरण दस्तावेज़ में, एक लेखा परीक्षक को त्रुटियों, चूक, संदर्भ की विकृति, इनकार, न्यूनीकरण, अतिशयोक्ति, निर्माण जैसे कारकों की जांच करनी होती है।”

प्रशासन के बारे में बात करते हुए, सेबी की अध्यक्ष ने कहा कि विवेक ही मार्गदर्शक सिद्धांत है। “अपने आप से पूछें कि क्या मैं इसका बचाव कर पाऊंगा जब यह अगले दिन समाचार पत्रों में प्रकाशित होगा।”

यह भी पढ़ें :   समाज कल्याण पर केंद्रित साहित्य और कविता कालजयी रहेगी: उपराष्ट्रपति

इस आयोजन का विवरण साझा करते हुए, भारतीय लेखापरीक्षा तथा लेखा विभाग के महानिदेशक श्री गुलजारी लाल ने कहा, “इस देश के युवाओं तक अपनी पहुंच बढ़ाने के अपने प्रयास के तहत, हमने विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए एक राष्ट्रीय ऑनलाइन निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया। हिंदी और अंग्रेजी में आयोजित इस द्विभाषी प्रतियोगिता को लेकर उत्साहजनक प्रतिक्रियाएं मिलीं। प्रमुख संस्थानों और विश्वविद्यालयों में पढ़ाई कर रहे छात्रों की ओर से एक हजार से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुई हैं। इस वर्ष के निबंध का विषय 2047, जब भारत अपनी आजादी का 100वां वर्ष पूरे करेगा, में सीएजी की भूमिका और यह जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों का समाधान करने के लिए क्या कर सकता है, पर केन्द्रित है।

लेखा दिवस उस दिन की याद में मनाया जाता है जब 1860 में पहले महालेखा परीक्षक ने अपना कार्यभार संभाला था।

*****

 

एमजी / एएम / आर/डीके-

यह भी देखें :   Gangapur City : श्री श्याम बाबा मंदिर निर्माण महोत्स्व : G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें