ग्रीक फिल्म ‘बिहाइंड द हेस्टैक्स’ में वर्ष 2015 के प्रवासी संकट की विचित्र हकीकत को दर्शाया गया है

‘बिहाइंड द हेस्टैक्स’ वर्ष 2015 में ग्रीस में उस समय गहराए प्रवासी संकट की पृष्ठभूमि में बनाई गई एक सामाजिक फिल्म है, जब यूरोपीय देशों ने अपनी सीमाओं को बंद कर दिया था, और जिस वजह से प्रवासी और शरणार्थी ग्रीस की उत्तरी सीमा पर एकत्र होने पर विवश हो गए थे। इस फिल्म का अंतर्राष्ट्रीय प्रीमियर 53वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) के दौरान किया गया।

निर्देशक और पटकथा लेखक असि‍मिना प्रोएड्रो ने पीआईबी द्वारा आयोजित ‘इफ्फी टेबल टॉक्स’ में कहा कि इस फि‍ल्‍म की कहानी एक परिवार के सभी तीन केंद्रीय पात्रों यथा एक पिता, मां और एक बेटी के नजरिए से सुनाई गई है। इन तीनों अलग-अलग लोगों को भ्रष्ट व्‍यवस्‍था के आगे झुकने के लिए विवश किया जाता है। असि‍मिना प्रोएड्रो ने कहा, “इस फिल्म के तीनों ही खंड में से प्रत्येक में इस बात पर फोकस किया गया है कि कोई भी व्यक्ति आखिरकार इस तरह का व्यवहार क्यों कर रहा है।’  उन्होंने कहा, ‘मैं मुख्य पात्रों में से प्रत्येक को करीब से पेश करना चाहता था। हालांकि, फि‍ल्‍म के आखिर में इन तीनों ही किरदारों के मकसद सामने आ जाते हैं। शुरू में हमने दर्शकों को यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि ये पात्र अजीबोगरीब व्यवहार क्यों कर रहे हैं।” 

यह भी पढ़ें :   फिजी में श्री सत्य साई संजीवनी चिल्ड्रन हार्ट हॉस्पिटल के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री के भाषण का मूल पाठ

असिमिना प्रोएड्रो को यह लगता है कि अंतरराष्ट्रीय दर्शक इस फिल्म से जुड़ाव महसूस करेंगे क्योंकि यह फिल्म एक परिवार के इर्द-गिर्द घूमती है और परिवार की अवधारणा सार्वभौमिक है। निर्देशक ने कहा कि शरणार्थी संकट इस कहानी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, क्योंकि यह मुख्य पात्रों को प्रभावित करता है। उन्होंने कहा कि इस फिल्म में प्रवासियों की पीड़ा एवं कठिनाइयों और ग्रीक आबादी द्वारा प्रवासी संकट से निपटने के जद्दोजहद को दिखाया गया है। “वहां सहायता प्रदान करने के लिए कुछ लोग थे, कुछ लोगों ने उनसे पैसे लेने की कोशिश की और इस संकट में चर्च की भूमिका भी रही, जो आम तौर पर काफी रूढ़िवादी थी और लोगों को यह बताती थी कि प्रवासी खतरनाक हैं। यह सारी बातें इस फिल्म में दिखाई गईं हैं।” इस प्रकार, यह फिल्म इस बात को दर्शाती है कि कैसे लोग रोजाना एक भ्रष्ट व्यवस्था का शिकार होते हैं।

“बिहाइंड द हेस्टैक्स” ग्रीस की उत्तरी सीमा पर रहने वाले एक मध्यम आयु वर्ग के कर्ज में डूबे मछुआरे की कहानी है, जो मोटी फीस के बदले सीमावर्ती झील के पार प्रवासियों की तस्करी करना शुरू कर देता है। चर्च जाने के प्रति समर्पित उनकी पत्नी, ईश्वर के वचन में सच्चाई की तलाश कर रही है, जबकि दम्पति की बेटी अपने जीवन को स्वयं परिभाषित करने की कोशिश करती है। परिवार में एक दुःखद घटना के घटित होने का बाद, तीनों पात्र अपने स्वयं के व्यक्तिगत बाधाओं और कमजोरियों का सामना करने के लिए प्रेरित होते हैं और उन्हें जीवन में पहली बार अपने कार्यों की कीमत चुकाने के बारे में विचार करना पड़ता है।       

यह भी पढ़ें :   माननीय प्रधानमंत्री ने बेंगलुरु हवाई अड्डे पर नए टर्मिनल भवन का उद्घाटन किया

बेटी का किरदार निभाने वाली पात्र एवगेनिया लावडा ने इस फिल्म से डेब्यू किया है। उन्होंने कहा, “हालांकि मैंने फिल्म में अपनी उम्र का किरदार नहीं निभाया, लेकिन मैंने किरदार में तीव्र भावनाएं जोड़ने की कोशिश की।”

***

एमजी/एएम/आरआरएस/आर/जेके/एसके  

यह भी देखें :   Nadoti : तालचिड़ा के गांव चैनपुर में देवी लाल बैरवा की संदिग्ध परिस्थितियों में हुयी मौत

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें