fbpx
Breaking News

उत्पीड़ने झेलते पुरूषों के लिए भी हो कानून

उत्पीड़ने झेलते पुरूषों के लिए भी हो कानून
फरीदाबाद 4 अप्रैल। टीम पुरूष आयोग द्वारा पुतला दहन कर उत्पीड़न झेलते पुरूषों के लिए भी कानून की मांग की गई।
फरीदाबाद हरियाणा के प्रवीन गुलाटी ने बताया कि अक्सर कथित नारीवादी समूहों द्वारा हमारे समाज को पितृसत्तामक के अलावा महिलाओं पर अत्याचार करने वाला बताया जाता है। इसके अलावा महिला छेड़छाड से लेकर दहेज और घरेलू हिंसाओं में अक्सर कानून महिला का पक्ष लेता दिख जाता है।
इस बात को ध्यान में रखते हुए फरीदाबाद (हरियाणा) के बीके चैक पर पुरुष आयोग की टीम द्वारा आयोजित कार्यक्रम मंे आयोग की तरफ से बताया गया कि एकतरफा महिलाओं की बात को महत्व दिया जाता है और महिलाएं इन कानूनों का दुरुपयोग कर रही हैं। जैसे छेड़छाड, रेप और दहेज जैसे कानूनों का अपने निजी फायदे के लिए इस्तेमाल होता है। इन मामलों में फंसने के बाद न सिर्फ समाज में पुरुष के सम्मान को चोट पहुंचती हैं बल्कि कई सालों की कानूनी लड़ाई में वो मानसिक पीड़ा से भी गुजरता है। अगर वो निर्दोष साबित होता है तो उसके समय, पैसे और मानहानि की भरपाई नहीं हो सकती। अकसर देखने में भी आता है कि घरेलू झगड़ों को बढ़ाचढ़ा कर अपराध बना दिया जाता है। इसके अलावा धन व जमीन जायदाद हड़पने, रंजिश निकालने व परेशान करने के लिए झूठे केस बनाए जाते हैं. कोर्ट कचहरियों में मुकदमों की भरमार है। एक तरफ जहाँ समाज में लैंगिक समानता की बात होती है वहां इस प्रकार से एकतरफा कार्यवाहिओं का भी विरोध होना चाहिए।
समाज सेवी प्रवीन गुलाटी ने कहा कि सभी को पुरुषों के बारे में भी सोचना चाहिए। पुरुषों के लिए कोई भी कानून नही है।

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe

Check Also

मुख्य समाचार

मुख्य समाचार ■ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमरीका के राष्ट्रपति जो बाइडन के निमंत्रण पर आज …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *