fbpx
सोमवार , दिसम्बर 6 2021
Breaking News
SLSA Fashion

‘बिटरस्वीट’ भारत के ब्लड शुगर की कहानी है: निर्देशक अनंत नारायण महादेवन

‘बिटरस्वीट’ फिल्म सुगुना और उसकी साथी महिला गन्ना काटने वालों के दिल दहलाने वाले कष्टों के बारे में जानकारी देती है। दोनो ऐसी स्थिति में फंस जाती हैं कि वे न तो बच सकते हैं और न ही वहाँ से भाग सकते हैं।

 

फिल्म के निर्देशक अनंत नारायण महादेवन ने आज गोवा में 52वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव-आईएफएफआई में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “यह भारत के ब्लड-शुगर की कहानी है। हम जिस चीनी का उपयोग करते हैं वह वास्तविक जीवन में कितनी कड़वी हो सकती है।”

 

श्री महादेवन ने महाराष्ट्र के एक गांव बीड की गन्ना काटने वाली महिलाओं की पीड़ा की गाथा सुनाते हुए कहा कि ब्राजील को हराकर भारत को नंबर एक गन्ना निर्यातक बनाने और अपनी रोज़ी-रोटी कमाने की दौड़ में, गन्ना काटने वाली महिलाएं खेतों में एक बहुत ही भयानक काम करने वाला विषय बन गई हैं।

उन्होंने कहा, “गन्ना काटने की अवधि एक वर्ष में सिर्फ छह महीने होती है और उन्हें बाकी वर्षों के लिए फसल के समय के दौरान मिलने वाले मामूली वेतन पर जीवित रहने की ज़रूरत होती है। इसलिए गन्ना काटने वाली महिलाएं एक दिन भी गंवाने का जोखिम नहीं उठा सकती हैं। लेकिन दुर्भाग्य से मासिक धर्म चक्र की जैविक प्रक्रिया के कारण, वे हर महीने 3 से 4 दिन का नुकसान उठाती हैं। इस नुकसान से बचने के लिए करीब 10 साल पहले बीड गांव में एक अजीबोगरीब प्रथा शुरू हुई थी।”

 

फिल्म के बारे में और जानकारी देते हुए श्री महादेवन ने कहा, झोलाछाप और अयोग्य स्त्री रोग विशेषज्ञ, उत्तर प्रदेश और बिहार के क्षेत्रों से पलायन कर गए हैं और बीड में उतरे हैं और पैसा बनाने के लिए, इन गन्ना काटने वाली महिलाओं को ‘हिस्टेरेक्टॉमी’ गर्भाशय, गर्भ हटाने की सर्जरी कराने की सलाह देना शुरू कर दिया है। वे महिलाओं को यह समझाने में सफल रहे कि इससे उन्हें उनकी सभी समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा, जैसे हर महीने मासिक धर्म के दौरान दर्द, उन दिनों के दौरान मजदूरी का नुकसान और गर्भाशय में ट्यूमर का संभावित विकास और अन्य चिकित्सा मुद्दे।

 

उन्होंने कहा, “इस जघन्य प्रथा के परिणामस्वरूप फिल्म में नायिका जैसी युवा लड़कियों की आज सर्जरी हो रही है। यह जीवित रहने की कहानी है, जैविक चक्र को बदलने की कहानी है जो आपको पूरी तरह से झकझोर कर रख देती है।”

 

इन दिल दहला देने वाली घटनाओं पर सरकार और नागरिक समाज की प्रतिक्रिया पर एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि एक अंतर्राष्ट्रीय मीडिया हाउस ने महाराष्ट्र के कुछ गैर सरकारी संगठनों और कानून निर्माताओं के साथ उनकी टीम के साथ एक साक्षात्कार किया। लेकिन शक्तिशाली चीनी लॉबी के दबाव के कारण वे चाहते हुए भी इस बारे में कुछ भी करने में असमर्थता व्यक्त की।

 

निर्देशक ने कहा, “फिल्म में हमने दिखाया है कि एक सरकारी अधिकारी मुद्दों की जांच कर रहा है, लेकिन कोई भी महिला इस डर से आगे नहीं आती है कि उनकी नौकरी चली जाएगी, क्योंकि यह नौकरी ही उनकी आय का एकमात्र स्रोत है। उनका कहना है कि वे स्वेच्छा से ऐसा कर रही हैं। तो यह सबसे भयावह सच है, जो इसे उठाने के लिए सांसदों और समाजसेवियों को भी लाचार बना देता है। शक्तिशाली शुगर-लॉबी भी एक बाधा है।”

 

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, “भारत की कृषि अर्थव्यवस्था को मजबूत करते हुए, हमें हमेशा मानवीय पहलू को भी इसके साथ जोड़ना चाहिए। किसी भी क्षेत्र में नंबर एक बनने की होड़ में हम मानवीय समस्याओं से हम मुंह फेर लेते हैं।

 

फिल्म बनाने के पीछे अपनी प्रेरणा के बारे में बातचीत करते हुए, निर्देशक ने कहा कि उन्होंने एक प्रमुख दैनिक में एक शीर्षक पढ़ा, जिसका शीर्षक था ‘बीड, बिना गर्भ वाली महिलाओं का गांव।’

 

उन्होंने कहा, “मैं उत्सुक हो गया। मैंने आगे की जांच की और गन्ना काटने वाली महिलाओं के जीवन में चला गया। मैंने अपनी फिल्म के माध्यम से जो कुछ भी दिखाया है, वह उन महिलाओं की असली कहानी है। मैंने इसे सबसे ईमानदार तरीके से चित्रित किया है।”

 

गोवा में 52वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में पत्र सूचना कार्यालय द्वारा आयोजित मीडिया से बातचीत सत्र में फिल्म के निर्माता सुचंदा चटर्जी और शुभा शेट्टी भी मौजूद थे।

‘Beed – a village of #Women without wombs’ – said a news story in a leading newspaper. I got intrigued- Director Ananth Narayan Mahadevan shares what inspired him to make the film ‘Bitter Sweet’ The film is featuring at #IFFI52 under Indian Panoramahttps://t.co/qRXuvwMsyf pic.twitter.com/Mf6sYVqZFR

 

फिल्म के बारे में:

 

22 वर्ष की सगुना कई गन्ना काटने वाली महिलाओं  के साथ बीड में गन्ने के खेतों में काम करने आती है। वह कड़ी मेहनत करने और अपने पिता को अपना कर्ज चुकाने में मदद करने के लिए दृढ़ है। मासिक धर्म के कारण जब वह तीन दिनों तक काम करने से चूक जाती है तो उस पर भारी जुर्माना लगाया जाता है। उसे हिस्टेरेक्टॉमी सर्जरी कराने यानी गर्भाशय निकालने की भी सलाह दी जाती है ताकि उसका काम बंद न हो। वह यह जानकर चौंक गई कि यह सभी के लिए नियम है। स्थिति यह है कि सुगुना और उसकी साथी गन्ना काटने वाली महिला न तो बच सकती हैं और न ही वहाँ से भाग सकती हैं।

 

निर्देशक के बारे में:

अनंत नारायण महादेवन एक पटकथा लेखक, अभिनेता और हिंदी, मराठी, मलयालम और तमिल फिल्मों और टीवी कार्यक्रमों के निर्देशक हैं। उनकी ‘मी सिंधुताई सपकाल’ (2010) ने कई राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीते।

 

कलाकार समूह

 

निर्माता: क्वेस्ट फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड

 

पटकथा: अनंत नारायण महादेवन

 

डीओपी: अल्फांसो रॉय

 

संपादक: अनंत नारायण महादेवन, कुश त्रिपाठी

 

कलाकारः अक्षय गुरव, सुरेश विश्वकर्मा, स्मिता तांबे

 

* * *

एमजी/एएम/एमकेएस/सीएस

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe
SLSA Fashion

Check Also

ओमीक्रोन

जिनोम सीक्वेंसिंग से हुई 9 व्यक्तियों में ओमीक्रोन वायरस मिलने की पुष्टि विभाग ने कांटेक्ट ट्रेसिंग कर संपर्क में आए व्यक्तियों को किया आइसोलेट

जिनोम सीक्वेंसिंग से हुई 9 व्यक्तियों में ओमीक्रोन वायरस मिलने की पुष्टि विभाग ने कांटेक्ट …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com