fbpx
सोमवार , दिसम्बर 6 2021
Breaking News
SLSA Fashion
banner

एएसयू एंड एच दवाओं के नियामकों और निर्माताओं के लिए प्रशिक्षण सत्र का आयोजन किया गया

आयुर्वेद, सिद्ध, यूनानी और होम्योपैथी (एएसयू एंड एच) दवाओं के निर्माताओं और नियामकों को उनके कार्य में और अधिक निपुण बनाने के लिए आयुष मंत्रालय ने दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया।

मंत्रालय के ड्रग पॉलिसी सेक्शन द्वारा तीन महीने की अवधि में आयोजित किए जाने वाले पांच प्रशिक्षण सत्रों में से यह पहला प्रशिक्षण सत्र है।

उत्तरी क्षेत्र के लिए स्थानीय आयुर्वेद अनुसंधान संस्थान मंडी में आयोजित प्रशिक्षण सत्र में हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, चंडीगढ़, लद्दाख, जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के 40 प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

कार्यक्रम में मौजूदा नियमों, जीएमपी (गुड मेन्यूफेक्चरिंग प्रैक्टिस), डब्ल्यूएचओ-जीएमपी, डीटीएल, एएसयू एंड एच दवाओं के परीक्षण, उद्योग व राज्य औषधि नियंत्रण ढांचे को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए योजनाओं पर चर्चा की गई। यह एक द्विपक्षीय संवाद कार्यक्रम है, जिसमें केंद्र, राज्य एवं हितधारक मिलकर काम कर रहे हैं, ताकि आयुष दवाइयों को और अधिक बढ़ावा व निर्माताओं को प्रोत्साहन मिल सके।

आयुष मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार इस प्रशिक्षण सत्र का उद्देश्य एएसयू एंड एच दवा नियामकों और एएसयू एंड एच दवा उद्योग कर्मियों को एक मंच पर लाकर नियमों की जानकारी देना है। विभिन्न आयुष दवा नियामक, उद्योगकर्मी और अन्य हितधारक अपने प्रतिनिधियों ने इस प्रशिक्षण सत्र के लिए नामित किया है।

केंद्रीय आयुर्वेदीय विज्ञान अनुसंधान परिषद (सीसीआरएएस) एवं विभिन्न राष्ट्रीय संस्थानों के सहयोग से आयुष मंत्रालय के ड्रग पॉलिसी सेक्शन द्वारा प्रशिक्षण सत्रों का आयोजन किया जा रहा है।

*****

एसके

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe
SLSA Fashion

Check Also

ओमीक्रोन

जिनोम सीक्वेंसिंग से हुई 9 व्यक्तियों में ओमीक्रोन वायरस मिलने की पुष्टि विभाग ने कांटेक्ट ट्रेसिंग कर संपर्क में आए व्यक्तियों को किया आइसोलेट

जिनोम सीक्वेंसिंग से हुई 9 व्यक्तियों में ओमीक्रोन वायरस मिलने की पुष्टि विभाग ने कांटेक्ट …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com