fbpx
बुधवार , जनवरी 19 2022
Breaking News
banner

दीक्षा डागर, यश घणघस को टारगेट ओलंपिक पोडियम योजना में शामिल किया गया

हरियाणा की गोल्फर दीक्षा डागर और जुडोका यश घणघस को क्रमशः कोर एवं डेवलपमेंट ग्रुप में टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम (टीओपीएस) में शामिल किया गया है।

21 वर्षीया बायें हाथ की खिलाड़ी दीक्षा डागर हरियाणा के झज्जर की रहने वाली हैं। सुश्री डागर 2017 ग्रीष्मकालीन डिफ्लिम्पिक्स में रजत पदक विजेता हैं और पिछले साल ओलंपिक खेलों में 50वें स्थान पर रहीं। इस बीच, हरियाणा के पानीपत से आगे बढते हुए खुद को मैट पर साबित करने के लिए यश आगे आए।

केंद्रीय खेल मंत्रालय मुख्य रूप से प्रत्येक राष्ट्रीय खेल महासंघ के प्रशिक्षण तथा प्रतियोगिता के वार्षिक कैलेंडर (एसीटीसी) के तहत उत्कृष्ट एथलीटों का समर्थन करता है। टीओपीएस उन क्षेत्रों में एथलीटों को सहायता प्रदान करता है, जो एसीटीसी के अंतर्गत नहीं आते हैं तथा एथलीटों की अप्रत्याशित जरूरतों को पूरा करते हैं, क्योंकि वे ओलंपिक एवं पैरालंपिक खेलों में उत्कृष्टता प्राप्त करने की तैयारी करते हैं।

बजरंग और सुनील के लिए वित्तीय सहायता

खेल मंत्रालय के मिशन ओलंपिक सेल (एमओसी) ने पहलवानों – बजरंग पुनिया तथा सुनील कुमार को विदेशी प्रदर्शन प्रशिक्षण के लिए वित्तीय सहायता को मंजूरी दे दी है।

टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता बजरंग को इससे पूर्व बिजी सेशन से पहले मास्को में 26 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के लिए 7.53 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की गई थी। अब उन्हें 27 दिसंबर से चल रहे शिविर के लिए अतिरिक्त 1.76 लाख रुपये की सहायता दी गई है। 26-दिवसीय शिविर का समापन जनवरी 2021 को होगा।

बजरंग के साथ क्रमशः अतिरिक्त साझेदार और फिजियोथेरेपिस्ट के रूप में जितेंदर और आनंद कुमार गए हैं। बजरंग यूडब्ल्यूडब्ल्यू रैंकिंग स्पर्धाओं, बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों के साथ-साथ हांग्जो, चीन में एशियाई खेलों सहित अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए तैयार हैं। बजरंग ने कहा, “मुझे इस फरवरी में इटली एवं तुर्की में रैंकिंग सीरीज और फिर अप्रैल में मंगोलिया में एशियाई चैंपियनशिप में भाग लेना है। मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने जा रहा हूं क्योंकि मेरा लक्ष्य पेरिस 2024 में अपने पदक का रंग बदलना है।”

ग्रीको-रोमन पहलवान सुनील कुमार को इस बीच रोमानिया तथा हंगरी में अतिरिक्त साझेदार और कोच के साथ एक विशेष प्रशिक्षण शिविर के लिए 10.85 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की गई है। सुनील, जो टीओपीएस डेवलपमेंट ग्रुप का हिस्सा हैं, आगामी यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग रैंकिंग इवेंट्स की तैयारी के लिए फॉरेन एक्सपोजर ट्रिप का इस्तेमाल करेंगे।

सुनील ने सीनियर नेशनल चैंपियनशिप 2019 और 2020, एशियन चैंपियनशिप 2020 और सीनियर नेशनल में 2021 में गोल्ड मेडल जीते थे।

***

एमजी/एएम/एसकेएस/सीएस

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें

Check Also

पोल्ट्री – एनईआरसीआरएमएस द्वारा लागू दीर्घकालिक जीवन के लिए एक वरदान – एनईसी, डोनर मंत्रालय के तत्वावधान में एक पंजीकृत सोसायटी

मि. मिन्थांग, मणिपुर के चुराचांदपुर जिले के समुलामलन ब्लॉक में रहते हैं। एनईआरसीआरएमएस के हस्तक्षेप …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *