मैं अगली पीढ़ी के एथलीटों को प्रशिक्षण देकर जूडो के खेल में वापस योगदान देना चाहता हूं: केआईयूजी 2021 के स्वर्ण पदक विजेता दीपक मिश्र

जूडो के 24 वर्षीय खिलाड़ी दीपक मिश्र मार्च 2022 में कानपुर में अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय पुरुष जूडो चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर एक शानदार फॉर्म के साथ खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स 2021 में शामिल हुए। राष्ट्रीय जूडो चैंपियनशिप में दो बार के इस स्वर्ण पदक विजेता ने बेंगलुरु में भी धीमा पड़ने के कोई संकेत नहीं दिखाए। उन्होंने पुरुषों के 81 किलोग्राम भार वर्ग में बाकी प्रतिस्पर्धियों को रौंद दिया और इस क्रम में गुजरात विश्वविद्यालय के केआईयूजी 2020 के स्वर्ण पदक विजेता समीर खान पठान को हरा दिया।

मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के अपने गांव में पहली बार इस जापानी मार्शल आर्ट को अपनाने के बाद से अपनी 12 साल की लंबी यात्रा को याद करते हुए, दीपक ने कहा, “इस खेल ने मुझे बहुत कुछ दिया है, और मुझसे भी बहुत कुछ लिया है। जब मैं अपनी जूडोगी (जूडो की पारंपरिक वर्दी का जापानी नाम) पहनता हूं और मैट पर उतरता हूं और अच्छा प्रदर्शन करता हूं, तो मुझे अपने बारे में इस बात को लेकर बहुत अच्छा महसूस होता है कि मैं अपने खेल में निपुण हूं। दूसरी ओर, यह अक्सर सिर्फ चंद वरिष्ठों और शुभचिंतकों के सहयोग से की गई एक अकेली यात्रा रही है। और निश्चित रूप से, चोटें और अन्य बाधाएं भी आई हैं।”

यह भी पढ़ें :   श्री अनुराग ठाकुर और श्री जी. किशन रेड्डी ने ई-फोटो प्रदर्शनी "मेकिंग ऑफ द कॉन्स्टीट्यूशन (संविधान के निर्माण की प्रक्रिया)" और वर्चुअल फिल्म पोस्टर प्रदर्शनी "चित्रांजलि@75" का शुभारंभ किया

उन्होंने विस्तार से बताते हुए कहा, “मैंने 12 साल की उम्र से जूडो का अभ्यास करना शुरू कर दिया था। मध्य प्रदेश के अपने गांव में इस खेल से जुड़ी बुनियादी बातें सीखने के बाद, मुझे ट्रायल के माध्यम से साई लुधियाना के लिए चुन लिया गया। मैंने वहां अच्छा प्रदर्शन करना शुरू किया और राज्य स्तर के कई पदक जीते। हालांकि, आगे बढ़ने के लिए, प्रशिक्षण का खर्च उठाने के लिए मुझे एक उपयुक्त छात्रवृत्ति की जरूरत थी। मेरा परिवार एक साधारण पृष्ठभूमि से आता है और मेरे पिता मध्य प्रदेश में महज एक ड्राइवर हैं। मेरे परिजनों ने हमेशा मुझे इस खेल को खेलने के लिए प्रोत्साहित किया, लेकिन मेरी जरूरतों को पूरा करने के लिए आर्थिक साधनों की जरूरत थी। इस साल जब मैं लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी पहुंचा, तब मुझे 10,000 रुपये प्रति माह की एक नियमित छात्रवृत्ति मिलनी शुरू हो गई। इससे मुझे अब अपना प्रशिक्षण जारी रखने में मदद मिली है।”

दीपक ने साई  लुधियाना के अपने वरिष्ठ साथी नितिन शर्मा का धन्यवाद किया, जो बाद में उनके कोच बने। श्री शर्मा ने दीपक को लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जहां वे एक प्रशिक्षक हैं,  में दाखिला लेने और अपने खेल कौशल आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया।

यह भी पढ़ें :   भारत के इस राज्य में बनेगा देश का सबसे बड़ा सोलर पार्क, जानिए किसे मिलेगा फायदा

अपने कोच से समर्थन के बारे में बात करते हुए, दीपक ने कहा, “जब मैंने जूडो को गंभीरता से लेना शुरू किया, तभी से वो मेरे सलाहकार रहे हैं। अगर मुझे कभी ऐसा मौका मिला, तो मैं भी उनकी तरह ही अगली पीढ़ी के एथलीटों को प्रशिक्षण देकर जूडो के खेल में वापस योगदान देना चाहूंगा।”

दीपक – जिनका जूडो के प्रति जुनून उनकी गर्दन के पीछे जापानी भाषा में खुदे “जूडो” के टैटू में दिखाई देता है – ने अपनी बात समाप्त समाप्त करते हुए कहा, “मैं व्यक्तिगत कारणों से पिछली बार खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में भाग लेने में असमर्थ रहा, लेकिन अब जबकि मैं यहां आया हूं और मैंने अच्छा प्रदर्शन किया है, स्वर्ण पदक के लिए मिली एक लाख रुपये की खेलो इंडिया योजना छात्रवृत्ति मुझे आगे बढ़ने में बेहद मददगार साबित होगी।”

****

एमजी/एएम/आर

यह भी देखें :   Gangapur City : रस्सा कसी के खेल के साथ महिला खेल महोत्सव सीजन 3 की शुरुआत

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें