banner

भारतीय ज्ञान प्रणाली और भाषा में बुनियाद मजबूत करते हुये भारतीय उच्च शिक्षा आयोग को रोजगार योग्यता, रोजगार सृजन और वैश्विक दृष्टिकोण सुनिश्चित करना चाहियेः श्री धर्मेन्द्र प्रधान

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने आज भारतीय उच्च शिक्षा आयोग (एचईसीआई) के गठन के लिये किये जाने वाले उपायों को मद्देनजर रखते हुये गहन विचार-विमर्श में हिस्सा लिया।

बैठक के दौरान श्री प्रधान ने कहा कि एचईसीआई को रोजगार योग्यता, रोजगार सृजन और वैश्विक दृष्टिकोण सुनिश्चित करना चाहिये। उन्होंने कहा कि आयोग को वैश्विक अकादमिक मानकों को सुनिश्चित करना चाहिये और उच्च शिक्षा संस्थानों को अधिक अकादमिक स्वायत्तता देनी चाहिये।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 1 अप्रैल, 2022 को परीक्षा पे चर्चा के 5वें संस्करण के दौरान छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ बातचीत करेंगे

श्री प्रधान ने आगे कहा कि एनईपी-2020 की यह महत्त्वपूर्ण सिफारिश देश की शिक्षा प्रणाली को उपनिवेशवादी तत्त्वों से मुक्त करने की दिशा में उठाये गये अनेक कदमों में से एक है।

प्रस्ताव किया गया कि एचईसीआई को देश के सभी शिक्षा संस्थानों के मार्गदर्शन के लिये एक प्रकाश स्तंभ के रूप में विकसित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें :   कॉफ्रेंस ऑफ दि पार्टीज-सीओपी-26 को अनुकूलन, वित्त, राह्त उपायों जैसे कार्य सूची के सभी विषयों पर एक समान व्यवहार के साथ एक संतुलित परिणाम सुनिश्चित करना चाहिए: श्री भूपेंदर यादव

 

*****

एमजी/एएम/एकेपी

यह भी देखें :   Live : चोर को पकड़ा , एक घंटे बाद भी नहीं आयी पुलिस – गंगापुर सिटी

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें