banner

‘8.15 प्रतिशत ब्‍याज वाली सरकारी प्रतिभूति 2022’ का पुनर्भुगतान

सरकारी प्रतिभूति निय‍मन, 2007 के उप-नियमों 24 (2) और 24 (3) के अनुसार परिपक्‍व होने वाली धनराशि का भुगतान सरकारी प्रतिभूति के पंजीकृत धारक को या तो एक पे ऑर्डर, जिसमें उसके बैंक खाते का संबंधित ब्‍यौरा होगा, के जरिये किया जाएगा अथवा इस रकम को उस बैंक में धारक के खाते में डाल दिया जाएगा जिसमें इलेक्‍ट्रॉनिक ढंग से धनराशि की प्राप्ति की सुविधा होगी। सरकारी प्रतिभूति को सहायक सामान्य खाता बही या संघटक सहायक सामान्य खाता बही खाते या शेयर प्रमाणपत्र के रूप में रहना चाहिए। प्रतिभूतियों के संदर्भ में भुगतान सुनिश्चित करने के लिए इस तरह की सरकारी प्रतिभूतियों के मूल ग्राहक अथवा उसके बाद वाले धारकों को अपने बैंक खाते का संबंधित ब्‍यौरा अग्रिम रूप से उपलब्‍ध कराना होगा। हालांकि, बैंक खाते का संबंधित ब्‍यौरा/इलेक्‍ट्रॉनिक ढंग से धनराशि की प्राप्ति का अधिदेश न होने की स्थिति में नियत तिथि पर ऋण का पुनर्भुगतान सुनिश्चित करने के लिए धारक अपनी उन प्रतिभूतियों को सार्वजनिक ऋण कार्यालयों, कोषागारों/उप कोषागारों, भारतीय स्‍टेट बैंक की शाखाओं (जहां वे ब्याज के भुगतान के लिए मुखांकित/पंजीकृत हैं) में पेश कर सकते हैं जिनका निस्सरण या शोधन विधिवत रूप से हो चुका है। इन प्रतिभूतियों को पुनर्भुगतान की नियत तिथि से 20 दिन पहले पेश करना होगा।

यह भी पढ़ें :   चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा अल्प प्रवास पर आये राजसमन्द, प्रदेश में नवनिर्मित 41 आक्सीजन प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण- संभावित कोरोना की तीसरी लहर : राजस्थान पूरी तरह तैयार - चिकित्सा मंत्री

निस्सरण या शोधन मूल्‍य प्राप्त करने की प्रक्रिया के पूर्ण विवरण को किसी भी उपर्युक्‍त भुगतान कार्यालय से हासिल किया जा सकता है।.

***

एमजी/एएम/आरआरएस/डीवी                                       

यह भी देखें :   Bamanwas News : राजस्थान में बजट पेशी को ले कर क्या बीजेपी पार्टी का रुख | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

यह भी पढ़ें :   आधा दर्जन बदमाशों ने स्टेशन मास्टर पर किया जानलेवा हमला, बाल-बाल बची जान, देर रात की घटना
क्लिक करें