दिल्ली सीमा शुल्क विभाग ने आजादी का अमृत महोत्सव के तहत प्रतिष्ठित सप्ताह समारोहों के हिस्से के रूप में पूर्वी किदवई नगर के दरिया खान पार्क तथा रजोकरी स्थित सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में पेंटिंग/ड्राइंग प्रतियोगिता का आयोजन किया

दिल्ली सीमा शुल्क विभाग ने 10 जून को आजादी का अमृत महोत्सव के तहत प्रतिष्ठित सप्ताह समारोहों के हिस्से के रूप में पूर्वी किदवई नगर के दरिया खान पार्क तथा रजोकरी स्थित सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में ‘ मेरे सपनों का भारत ‘ विषयवस्तु पर बच्चों के लिए पेंटिंग/ड्राइंग प्रतियोगिता का आयोजन किया।

प्रतियोगिता में लगभग 300 बच्चों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया जिसका आयोजन दो आयु वर्गों – 5 से 10 वर्ष तथा 11-16 वर्ष के लिए किया गया था।

इसकी थीम का उद्वेश्य बच्चों को उनके राष्ट्र के विकास के साथ जोड़ना तथा राष्ट्रनिर्माण की दिशा में उन्हें सक्रिय योगदानकर्ता बनाना है। इसका उद्वेश्य उन्हें समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास तथा स्वतंत्रता के इन 75 वर्षों में स्वाधीनता संग्राम के आदर्शों के साथ भी गर्वपूर्वक जोड़ना है जिससे कि बच्चे और नागरिक भारत के नागरिकों के रूप में उस स्वतंत्रता और विशेषाधिकारों को महत्व दे सकें जो हमें प्राप्त हुई हैं। 

 

यह बच्चों को नवोन्मेषी तरीके से सोचने तथा अपने आसपास की समस्याओं का समाधान ढूंढने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

यह भी पढ़ें :   राजस्थान में 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की तैयारी

बच्चों ने ‘ मेरे सपनों का भारत ‘ विषयवस्तु पर बहुत रचनाशील तथा रंगारंग पेंटिंग/ड्राइंग बनाई। इन पेंटिंग/ड्राइंग ने प्रदर्शित किया कि वे एक स्वच्छ, पर्यावरण की दृष्टि से समृद्ध, तकनीक की दृष्टि से उन्नत, निष्पक्ष एवं न्यायपूर्ण तथा एक समतावादी देश चाहते हैं जो विश्व को भविष्य की ओर उन्मुख करे। सभी बच्चों को ड्राइंग सामग्रियां तथा जलपान उपलब्ध कराया गया।

पुरस्कार विजेताओं को प्रमाणपत्र, ट्राफी तथा उपहार प्रदान किए गए। इस कार्यक्रम का बच्चों और क्षेत्रवासियों ने खूब स्वागत किया। मुख्य आयुक्त श्री सुरजीत भुजबल तथा प्रधान आयुक्त श्रीमती सिम्मी जैन इस अवसर पर उपस्थित हुईं, बच्चों के साथ परस्पर बातचीत की तथा उन्हें पुरस्कार प्रदान किए।

 

दिल्ली सीमा शुल्क विभाग द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव के तहत प्रतिष्ठित सप्ताह समारोहों के हिस्से के रूप में ‘ अप्रत्यक्ष कर ‘ विषय पर अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए एक स्लोगन लेखन प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम सहयोग तथा एस्प्रिट -डी-काप्र्स ( समूह के सदस्यों के प्रति साझा की गई गर्व तथा परस्पर विश्वास की भावना ) को बढ़ावा देने के लिए एक अंतर आयुक्त प्रतियोगिता के रूप में आयोजित किया गया। इसमें 75 से अधिक अधिकारियों ने भाग लिया। अप्रत्यक्ष कर हमेशा से ही राष्ट्र के लिए राजस्व का एक प्रमुख स्रोत रहा है जिसका उपयोग विकास संबंधी गतिविधियों के लिए किया जाता है। इस थीम का उद्वेश्य अधिकारियों को राष्ट्र निर्माण में अप्रत्यक्ष कर की भूमिका की दिशा में प्रोत्साहित करना और राष्ट्र के सामने गर्वपूर्वक इसकी घोषणा करना है। विजेताओं को प्रमाणपत्र और ट्राफी देकर सम्मानित किया गया। 

यह भी पढ़ें :   जय मीनेष आदिवासी विश्वविद्यालय का शिलान्यास एवं जयपुर में छात्रावास का लोकार्पण- प्रदेश में उच्च शिक्षा का बना बेहतरीन माहौल  - मुख्यमंत्री

 

 

 

एमजी/एमए/एसकेजे

यह भी देखें :   Todabhim : सरकारी पैसा खर्च कर टंकी तो बनवायी लेकिन पानी का कोई नामोनिशान नहीं

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें