banner

भारतीय 5G टेस्ट बेड मिलिट्री कॉलेज ऑफ टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग (एमसीटीई), महू में स्थापित किया जाएगा

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास (आईआईटी-एम) के सहयोग से मिलिट्री कॉलेज ऑफ टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग (एमसीटीई), महू में एक भारतीय 5G टेस्ट बेड स्थापित किया जाना है। इसको मूर्त रूप देने के लिए आज चेन्नई में एक समारोह में एमसीटीई और आईआईटी-एम के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। टेस्ट बेड भारतीय सेना को अपने अभियानगत उपयोग के लिए विशेष रूप से सीमा पर 5G तकनीक का उपयोग करने की सुविधा प्रदान करेगा।

हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन हमारे सशस्त्र बलों की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए विशिष्ट प्रौद्योगिकी का उपयोग करने वाले सिस्टम और उपकरणों को शामिल करने और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) आधारित एल्गोरिदम के उपयोग को बढ़ावा भी देगा। यह सहयोगात्मक और साझा अनुसंधान को भी प्रोत्साहन देगा और नई प्रौद्योगिकियों के विकास के लिए नये नये विचारों के आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करेगा। यह छात्रों, प्राध्यापकों और वैज्ञानिकों को 5G संचार और सैन्य अनुप्रयोगों के विकास के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए प्रोत्साहित करेगा। एमसीटीई और आईआईटी-मद्रास के बीच संयुक्त साझेदारी का उद्देश्य संचार के क्षेत्र में ‘आत्मनिर्भरता’ प्राप्त करने के लिए भारतीय सेना के स्वदेशीकरण प्रयासों में तेजी लाना और सेना के तीनों अंगों के लिए एक परीक्षण सुविधा प्रदान करना है तथा इस प्रकार अनुसंधान और विकास के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करना है। एमओयू के दायरे के तहत, आईआईटी मद्रास 5G सक्षम भविष्य के संचार पर व्यवहार्यता अध्ययन और प्रोटोटाइप विकास के लिए अनुसंधान द्वारा विधिवत सहायता प्राप्त परामर्श प्रदान करेगा।

यह भी पढ़ें :   खिलौनों के साथ शिक्षण से छात्रों में रचनात्मकता और संवेदनशीलता का विकास होता है और उनकी कल्पनाशीलता में बढ़ोतरी होती है- डॉ. सुभाष सरकार

****

एमजी/एएम/एबी

यह भी देखें :   Gangapur City : अस्पताल में मरीज लेकर आये, लाइन में जेबकतरों ने किया जेब पर हाथ साफ़

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें