banner

8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 पूरे प्रदेश में उत्साह के साथ मनाया गया

आज 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2022 का 8वां संस्करण मनाया गया। आयुष मंत्रालय और कर्नाटक सरकार ने मैसूर पैलेस, मैसूर में मुख्य कार्यक्रम का आयोजन किया। प्रधानमंत्री ने 15,000 से अधिक प्रतिभागियों के साथ मैसूर पैलेस में सामूहिक योगाभ्यास का नेतृत्व किया। इस वर्ष के योग दिवस की विषयवस्तु ‘मानवता के लिये योग’ है। पूरे प्रदेश में बड़ी संख्या में आम जन और विभिन्न संस्थानों ने कार्यक्रमों में भाग लेकर योग दिवस को बड़े उत्साह के साथ मनाया।

इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 अनेक नई पहलों का साक्षी बना। ‘गार्जियन रिंग’ कार्यक्रम, जो कि 79 देशों और संयुक्त राष्ट्र संगठनों के साथ-साथ विदेशों में भारतीय मिशनों के बीच सहयोगात्मक अभ्यास है और राष्ट्रीय सीमाओं को पार करने वाली योग की एकीकृत शक्ति की कहानी कहता है। आजादी का अमृत महोत्सव को आठवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के साथ एकीकृत करते हुए, 75 केंद्रीय मंत्रियों के नेतृत्व में देश भर में 75 प्रतिष्ठित स्थानों पर सामूहिक योग प्रदर्शन आयोजित किए गए। राजस्थान में भी जयपुर, जैसलमर और राजसमंद में स्थित तीन ऐतिहासिक धरोहरों पर केन्द्रीय मंत्रियों द्वारा योग कार्यक्रम किया गया।

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को जैसलमेर में सम के धोरों पर योग किया। जैसलमेर के सम में आयोजित इस योगाभ्यास कार्यक्रम में सीमा सुरक्षा बल के प्रहरी, वायु वीर, जवान और बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं सहित कई गणमान्य लोग तथा सीमा जन कल्याण समिति के लोग उपस्थित रहे।  श्री शेखावत ने योग कर लोगों को फिट रहने का संदेश दिया। सीमा सुरक्षा बल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बीएसएफ के जवानों ने ऊंटों पर योग का प्रदर्शन किया। श्री शेखावत ने कहा कि केन्द्र सरकार के प्रयासों के कारण योग को अंतर्राष्ट्रीय पहचान मिली है।

यह भी पढ़ें :   बाल दिवस के अवसर पर जिला स्तर पर आयोजित हाेंगे समारोह

जयपुर के जंतर मंतर में केन्द्रीय संसदीय मामले एवं संस्कृति मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल ने अन्य सांसद, विधायक एवं स्थानीय लोगों के साथ कार्यक्रम में भाग लिया। श्री मेघवाल ने योग के महत्व को बताते हुए कहा कि योग में हम आसन, प्राणायाम, व ध्यान को सम्मिलित करते है, योग हमारी आत्मिक शक्ति को बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि आसन, प्राणायाम और ध्यान का संयोग ही योग है। उन्होंने कहा कि योग के जरिए हम शरीर को स्वस्थ रख सकते है इसलिए हमें दैनिक जीवन में योग को अपनाना चाहिए। जन्तर मन्तर परिसर में इस कार्यक्रम का आयोजन भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग, जयपुर मण्डल, जयपुर, राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान, वेद स्वाध्याय पीठ संस्थान एवं भारतीय सीमा सुरक्षा बल की 126 बटालियन, जयपुर के समन्वय से आयोजित किया गया।

यह भी पढ़ें :   कौशल विकास मंत्रालय ने आईएनएस शिवाजी को समुद्री इंजीनियरिंग में उत्कृष्टता केंद्र के रूप में मान्यता प्रदान की

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री श्री कैलाश चौधरी ने राजसमन्द जिले में स्थित विश्व विरासत कुंभलगढ दुर्ग परिसर में योगाभ्यास किया। उन्होंने कहा कि योग से हम स्वस्थ रहते है ओर पहला सुख निरोगी काया है, हमें नियमित रूप से राज योग करना चाहिए। योग एक साधना है ओर योग करने वाला व्यक्ति हमेशा निरोगी रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के प्रयासों से योग आज विदेशों में भी बढ़े स्तर पर अपनाया जा रहा है।

कार्यक्रम के दौरान इन सभी जगह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मैसूर से सजीव उद्बोधन को भी सुना गया।

*********

प्रज्ञा/पवन  

यह भी देखें :   Bamanwas News : कल होगी बजट की पेशी, आम जनता को किया मिला ? | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें