ब्यूटी एंड वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल ने स्किल इंडिया मिशन के अंतर्गत 30 लाख से अधिक विद्यार्थियों को योग इंस्ट्रक्टर, प्रशिक्षक के रूप में प्रशिक्षित किया

समग्र स्वास्थ्य के लिए योग को प्रोत्साहित करने के प्रयास में कौशल विकास तथा उद्यमिता मंत्रालय के अधीन ब्यूटी एंड वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बीएंडडब्ल्यूएसएससी) ने 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए समारोह का आयोजन किया। समारोह का विषय था ‘योग को हां कहें और रोग को ना’। स्किल इंडिया मिशन के अंतर्गत बीएंडडब्ल्यूएसएससी के लघु अवधि प्रशिक्षण पाठ्यक्रम पास करने वाले विद्यार्थियों के लिए पहला दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हाल के समय में योग पूरे विश्व में सबसे बड़े जन आंदोलन के रूप में उभरा है और योग से मिलने वाले शांति केवल व्यक्तियों के लिए ही नहीं बल्कि अपने सम्पूर्ण समाज के लिए है। इस विज़न के साथ जुड़कर कौशल विकास तथा उद्यमिता मंत्रालय बीएंडडब्ल्यूएसएससी के साथ निकटता से योग के क्षेत्र में विभिन्न कैरियर संभावनाओं के सम्बद्ध में जागरूकता पैदा करने तथा अच्छे भविष्य के लिए योग को अपनाने में युवाओं को प्रोत्साहित करने का काम कर रहा है।

इस अवसर पर कौशल विकास तथा उद्यमिता मंत्रालय के सचिव श्री राजेश अग्रवाल ने कहा कि योग विश्व के लिए भारत का उपहार है। अपने प्राचीन वैदिक परम्पराओं के मूल के साथ योग आंतरिक तथा बाहरी सुंदरता विकसित करने का समग्र उपाय है। उन्होंने कहा कि यह दीक्षांत समारोह देखना वास्तव में प्रसन्नता की बात है और प्रमाण पत्र इंस्ट्रक्टरों के लिए गौरव की बात है। कुछ इंस्ट्रक्टर 60 से अधिक उम्र के है और यह इस तथ्य की फिर से पुष्टि करता है कि ज्ञान साझा करने के लिए कोई आयु नहीं होती। हम कोविड-19 महामारी के हानिकारक प्रभाव से उभरने पर नए कौशल की अविलंब आवश्यकता है। प्रमाणित योग इंस्ट्रक्टरों तथा प्रशिक्षकों के लिए मांग में वृद्धि के साथ कार्यबल की संभावना भी बढ़ती जा रही है। मैं बीएंडडब्ल्यूएसएससी को प्रधानमंत्री के निर्देशों के अनुसार इकोसिस्टम में दीक्षांत समारोह आयोजित करने के लिए पहला एसएससी बनने के लिए बधाई देता हूं।

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री ने लोगों से नमो ऐप पर 28 अगस्त 2022 के 'मन की बात' कार्यक्रम पर आधारित क्विज में भाग लेने का आग्रह किया

बीएंडडब्ल्यूएसएससी योग के लिए तीन विशेष पाठ्यक्रम – योग इंस्ट्रक्टर (बीएंडडब्लू) एनएसक्यूएफ 4, योग प्रशिक्षक (बीएंडडब्ल्यू) एनएसक्यूएफ 5 तथा वरिष्ठ योग प्रशिक्षक (बीएंडडब्ल्यू) एनएसक्यूएफ 6 – चलाती है। आर्ट ऑफ लिविंग, योग संस्थान तथा पतांजलि जैसे संस्थानों को सेक्टर स्किल काउंसिल के साथ जोड़ा गया है और इसकी सफलता में इनका योगदान है।

बीएंडडब्ल्यूएसएससी कौशल विकास और उद्यमिता विकास मंत्रालय की नोडल एजेंसी राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) द्वारा स्थापित स्वायत्त संस्था है जिसका उद्देश्य प्रासंगिक विषय तथा पाठ्यक्रमों, सूचना डाटाबेस तथा डिलीवरी प्रणाली के माध्यम से सुंदरता तथा स्वास्थ्य उद्योग को विकसित करने और इसमें कौशल प्रदान करने के लिए प्रभावी इकोसिस्टम बनाना है। काउंसिल ने अपनी स्थापना के समय से अनेक रोजगार भूमिकाओं का सृजन करके तथा विश्वभर में भारतीय कार्यबल को रोजगार योग्य बनाकर इस क्षेत्र को संगठित करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं।

समारोह को संबोधित करते हुए कौशल विकास तथा उद्यमिता मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री के.के. द्विवेदी ने कहा कि योग के क्षेत्र में उपलब्ध रोजगार के विभिन्न अवसरों का लाभ उठाने में युवाओं की मदद करने के लिए स्किल इंडिया के परिणाम के रूप में 1.30 लाख विद्यार्थियों को पिछले आठ वर्षों में योग इंस्ट्रक्टरों तथा प्रशिक्षकों के रूप में प्रशिक्षित किया गया है। उन्हें कौशल विकास की विभिन्न पहलों मुख्य रूप से रिकॉगनिशन ऑफ प्रायर लर्निंग (आरपीएल) लघु अवधि प्रशिक्षण (एसटीटी) तथा बीएंडडब्ल्यूएसएससी द्वारा चलाई गई विशेष परियोजनाओं के माध्यम से प्रशिक्षित किया गया है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय के प्रयासों के कारण योग भारत के कोने-कोने में पहुंच गया है जिससे लोगों को न केवल शारीरिक बल्कि आध्यात्मिक लाभ मिल रहा है। आज पूरे देश में लोग स्किल इंडिया प्रशिक्षण केन्द्रों के माध्यम से योग सीख रहे हैं और इसे कैरियर विकल्प के रूप में अपना रहे हैं।

यह भी पढ़ें :   कन्हेरी गुफाओं में जन-सुविधाओं का उद्घाटन

बीएंडडब्ल्यूएसएससी के अनुसार कुशल योग विद्यार्थियों की सबसे अधिक संख्या जिन राज्यों में है उनमें उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, हरियाणा, ओडिशा, केरल तथा पश्चिम बंगाल है। सेक्टर स्किल काउंसिल में सीबीएसई के स्कूलों में कक्षा 11वीं और 12वीं से योग में व्यावसायिक शिक्षा पाठ्यक्रम भी है।

इससे पहले बीएंडडब्ल्यूएसएससी ने योग में भारतीय युवा को कौशल संपन्न बनाने के लिए गणमान्य लोगों की उपस्थिति में आर्ट ऑफ लिविंग के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया। बीएंडडब्ल्यूएसएससी के अध्यक्ष डॉ. ब्लॉसम कोचर ने पास आउट हुए सभी विद्यार्थियों को उनकी उपलब्धियों के लिए बधाई दी और भविष्य के लिए शुभकामना व्यक्त की।

****

एमजी/एएम/एजी/डीके-