सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर ने प्रौद्योगिकी तैयारी स्तर (टीआरएल) और प्रौद्योगिकी मूल्यांकन के लिए इसके अनुप्रयोगों पर कार्यशाला का आयोजन किया

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसन्धान  परिषद -राष्ट्रीय विज्ञान संचार और नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर- सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर), नई दिल्ली ने आज 22 जून 2022 को एक दिवसीय “प्रौद्योगिकी तैयारी स्तर (टीआरएल) और प्रौद्योगिकी मूल्यांकन के लिए इसके अनुप्रयोगों” पर एक कार्यशाला का आयोजन किया। इस कार्यशाला का आयोजन सीएसआईआर द्वारा किया गया था। एनआईएससीपीआर द्वारा आईआईटी मद्रास, आईआईटी दिल्ली, आईआईटी मुंबई, आईआईटी रुड़की, आईआईटी धनबाद, आईआईटी जम्मू, सीएसआईआर-भारतीय पेट्रोलियम संस्थान, देहरादून, यूएनडीपी एक्सेलेरेटर लैब्स और टीआईएफएसी के सहयोग से किया गया था। कार्यशाला का उद्घाटन प्रो. रंजना अग्रवाल, निदेशक, सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर ने अन्य गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

  

कार्यशाला के गणमान्य व्यक्ति (बाएं) और प्रो रंजना अग्रवाल, निदेशक, सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए

 

अपने उद्घाटन भाषण में प्रो. रंजना अग्रवाल ने विभिन्न प्रयोगशालाओं में किए जा रहे शोध के प्रौद्योगिकी तैयारी स्तर (टीआरएल) का आकलन करने की आवश्यकता पर बल दिया। अक्सर प्रौद्योगिकी विकसित करने वालों (डेवलपर्स) और प्रौद्योगिकी के उपयोगकर्ताओं के बीच अंतर मिलता है। उन्होंने वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसन्धान परिषद राष्ट्रीय विज्ञान संचार और नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर- सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर) द्वारा देश भर में विभिन्न सीएसआईआर प्रयोगशालाओं में विकसित की गई विभिन्न प्रौद्योगिकियों के टीआरएल के आकलन में किए गए प्रयासों के बारे में बताया। संस्थान ने अब तक टीआरएल 6 और उससे अधिक स्तर वाली 467 प्रौद्योगिकियों का मूल्यांकन तैयार किया है। प्रो. अग्रवाल ने उल्लेख किया कि भारत सरकार की पहल के कारण, हाल के दिनों में नवाचार की दिशा में नीतियां बनाने में एक आदर्श बदलाव आया है। भारत अब 100वें यूनिकॉर्न का उदय देख रहा है और आज विश्व स्तर पर प्रत्येक 10 में से 1 यूनिकॉर्न  का उद्भव भारत में हुआ है। 16 जनवरी 2016 को स्टार्टअप इंडिया पहल के शुभारंभ के बाद से देश में 69,000 से अधिक स्टार्टअप को मान्यता मिल चुकी है जिनमें से 100 यूनिकॉर्न श्रेणी में हैं। उन्होंने टिप्पणी की कि विज्ञान को समाज की सेवा के लिए केंद्रित होना चाहिए और इसे प्राप्त करने के लिए हमारे शोध संस्थानों में विकसित प्रौद्योगिकियों के टीआरएल का आकलन करना महत्वपूर्ण है।

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसन्धान विभाग (डीएसआईआर) में सलाहकार/वैज्ञानिक-जी, प्रमुख (पेस, सीआरटीडीएच और ए2के+) डॉ. सुजाता चकलनोबिस ने प्रौद्योगिकियों की तैयारी के स्तर के आकलन की आवश्यकता के बारे में बताया। टीआरएल का उपयोग प्रौद्योगिकी के परिपक्वता स्तरों को निर्दिष्ट करने के लिए किया जाता है। उन्होंने पी एंड जी पर एक केस स्टडी पर प्रकाश डालते हुए टीआरएल के महत्व को समझाया। डीएसआईआर द्वारा टीआरएल 6 और उससे ऊपर की प्रौद्योगिकियों की पहचान के लिए अध्ययन किया गया था और इन प्रौद्योगिकियों में व्यावसायीकरण की सम्भावना है।

यह भी पढ़ें :   देश में रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं: केन्‍द्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री भूपेन्‍द्र यादव

  

डॉ. शेखर सी. मंडे, पूर्व महानिदेशक, सीएसआईआर ( बाएं ) और डॉ. सुजाता चकलनोबिस, वैज्ञानिक-जी, डीएसआईआर अपने व्याख्यान  देते हुए

 

मुख्य अतिथि, डॉ. शेखर सी. मंडे, पूर्व सचिव, डीएसआईआर के पूर्व सचिव और सीएसआईआर के पूर्व महानिदेशक, डॉ शेखर सी. मंडे ने मुख्य अतिथि के रूप में जोर देकर कहा कि हमारी प्रयोगशालाएं जो भी शोध कर रही हैं, उसका टीआरएल द्वारा मूल्यांकन किया जाना चाहिए। भले ही विज्ञान और वैज्ञानिक खोजें सार्वभौमिक हैं, लेकिन उनका कार्यान्वयन ज्यादातर स्थानीय है। उन्होंने देश में दुग्ध पाउडर उत्पादन की सफलता को याद दिलाया। भले ही विज्ञान की विभिन्न शाखाओं में टीआरएल का आकलन करने के अलग-अलग तरीके हों, लेकिन मूल बातें समान रहती हैं। अक्सर यह देखा गया है कि मौलिक विज्ञान और इंजीनियरिंग के बीच आकलन में अंतर है। अगर जनता की आकांक्षाओं को पूरा करना है तो वैज्ञानिकों और उद्योगपतियों को मिलकर काम करना चाहिए।

प्रो. प्रमोद पी. वांगीकर (आईआईटी बॉम्बे) मुख्य भाषण देते हुए

 

प्रो. प्रमोद पी. वांगीकर, केमिकल इंजीनियरिंग विभाग, आईआईटी बॉम्बे ने “उच्च टीआरएल स्तरों के साथ अनुसंधान-विश्वविद्यालय और संस्थान इसमें कैसे योगदान कर सकते हैं?” पर मुख्य भाषण दिया। अपने संबोधन में, उन्होंने सरकार और विश्वविद्यालयों तथा निजी क्षेत्र के बीच देखे गए अंतर को समझाया। उन्होंने उन कदमों के बारे में बताया जो विश्वविद्यालय और संस्थान अपने शोध में उच्च टीआरएल स्तर प्राप्त करने के लिए उठा सकते हैं। उन्होंने प्रौद्योगिकी को जोखिम से मुक्त करने की भी व्याख्या की ताकि प्रौद्योगिकियों का व्यवसायीकरण करना आसान हो और विश्वविद्यालय स्तर पर इसे अपनाया जा सके। इससे विश्वविद्यालयों और संस्थानों को उच्च टीएलआर स्तर के अनुसंधान में योगदान करने में सहायता मिलेगी।

उद्घाटन सत्र के बाद तकनीकी सत्र हुए। “चुनिंदा क्षेत्रों में टीआरएल स्काउटिंग के लिए रणनीतियाँ” पर पहले तकनीकी सत्र की अध्यक्षता डीएसआईआर में वैज्ञानिक-(जी) डॉ. सुजाता चकलनोबिस ने की थी। डॉ. अंजन रे, निदेशक, सीएसआईआर-आईआईपी, देहरादून ने “एडवेंचर्स इन ट्रांसलेशनल रिसर्च” पर आमंत्रित भाषण दिया। उन्होंने औद्योगिक मनोविज्ञान, संगठनात्मक व्यवहार, नैदानिक अनुसंधान, बाजार अनुसंधान, नकदी प्रवाह और अन्य आसान चुनौतियों के अध्ययन पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने छोटे स्टार्टअप्स के विचार का उल्लेख किया, जो नकदी प्रवाह की कमी के बावजूद अवधारणा को मूर्त रूप देना चाहते हैं, और जरूरी नहीं कि वे अंततोगत्वा बाजार पर ध्यान केंद्रित करें, हालांकि उनकी प्रेरणा ब्रांड निर्माण और नेटवर्किंग पर है। डॉ. अंजन ने टीआरएल सेल्फ-ऑडिटिंग की आवश्यकता पर प्रकाश डाला – टीआरएल लाइनों के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रमुख प्रश्नों का उत्तर दिया  जाना चाहिए और टीआरएल स्व-मूल्यांकन के लिए डेटा के साक्ष्य उपलब्ध होने चाहिए।

यह भी पढ़ें :   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गोवा में राष्ट्रीय सीमा शुल्क और जीएसटी संग्रहालय – ‘धरोहर’ को राष्ट्र को समर्पित किया

  

तकनीकी सत्र -1 और 2 के वक्ता

 

व्याख्यान के बाद 6 पीआईएस द्वारा “शिक्षा, अनुसंधान प्रयोगशालाओं और उद्योग में भारत में विकसित टीआरएल -6 और उससे ऊपर की प्रौद्योगिकियों के तकनीकी-वाणिज्यिक मूल्यांकन” पर अपना अध्ययन करने के लिए कार्यप्रणाली और कार्य योजना को साझा करने पर एक सत्र आयोजित किया गया था। आईआईटी जम्मू से डॉ. वी. राजकुमार, डॉ. बी आर बसाक, वैज्ञानिक, टीआईएफएसी, डॉ. रमेश अंदनारबम, आईआईटी रुड़की, डॉ. मंजूशा, आईआईटी दिल्ली, श्री सी श्रीपति, आईसीसीडब्ल्यू, आईआईटी मद्रास और आईआईटी धनबाद के डॉ. शशांक बंसल ने विशिष्ट क्षेत्रों में अनुवाद संबंधी अनुसंधान और उनके सामने आने वाली चुनौतियों के लिए अपनी कार्य योजना साझा की। अध्यक्ष डॉ. सुजाता चकलनोबिस के समापन भाषण के साथ सत्र का समापन हुआ।

  

“सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर के टीआरएल ढांचे का विकास और इसके कार्यान्वयन” पर दूसरे तकनीकी सत्र की अध्यक्षता डॉ. प्रमोद पी. वांगिकर, प्रोफेसर, आईआईटी बॉम्बे ने की। डॉ. विपन कुमार, वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक, सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर और डॉ. सुजीत भट्टाचार्य, मुख्य वैज्ञानिक, सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर ने सीएसआईआर प्रौद्योगिकियों के टीआरएल के आकलन में एनआईएससीपीआर द्वारा की गई पहलों को प्रस्तुत किया।

तकनीकी सत्र के बाद टीआरएल -6 और उससे ऊपर की प्रौद्योगिकियों के स्काउटिंग और मूल्यांकन की दिशा में दृष्टिकोण पर एक परस्पर विचार विमर्श (इंटरैक्टिव) सत्र और पैनल चर्चा हुई। डॉ. मृत्युंजय, महानिदेशक-आर एंड डी, कलिंग इंस्टीटयूट ऑफ़ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी (केआईआईटी)  विश्वविद्यालय में महानिदेशक अनुसन्धान और विकास और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. मृत्युंजय ने पैनल चर्चा की अध्यक्षता की।

कार्यशाला में वैज्ञानिकों, प्रौद्योगिकी विकासकर्ताओं (डेवलपर्स), उद्योग विशेषज्ञों, विद्वानों और विभिन्न अनुसंधान एवं विकास संस्थानों, सरकारी विभागों, विश्वविद्यालयों और उद्योगों के अधिकारियों ने भाग लिया।

*****

एमजी / एएम / एसटी /वाईबी

यह भी देखें :   Gangapur City : RAC के जवान ने दुकानदार से की मारपीट, लड़की को दी भद्दी गलियां | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें