banner

राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण 25 जून को महान योद्धा बाबा बंदा सिंह बहादुर का शहादत दिवस मनाएगा

राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण 25 जून, 2022 (भारतीय कैलेंडर के अनुसार) को महान योद्धा बाबा बंदा सिंह बहादुर का शहादत दिवस बनाएगा।

25 जून, 2022 को लाल किले के लॉन में प्रातः 10.30 बजे से 11.30 बजे तक विशिष्ट एवं विशिष्ट गणमान्य व्यक्तियों द्वारा प्रेरणादायक उपदेश दिये जायेंगे।

साथ ही, शाम 7.30 बजे से 9.30 बजे तक बाबा बंदा सिंह बहादुर साहिब-श्री गुरु सिंह सभा गुरुद्वारा, महरौली, नई दिल्ली के शहीदी स्थल पर समागम का आयोजन किया जाएगा, जहां बाबा बंदा सिंह बहादुर की शहादत स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी।

बाबा बंदा सिंह बहादुर एक महान सिख योद्धा और खालसा सेना के सेनापति थे, जिन्होंने मुगलों को हराकर उत्तर भारत के एक बड़े हिस्से को मुक्त कराया था। उन्होंने पंजाब में खालसा शासन की स्थापना की। बंदा सिंह बहादुर ने जमींदारी प्रथा को समाप्त कर दिया, और जमीन जोतने वाले किसानों को संपत्ति के अधिकार प्रदान किए। वे एक महान शासक थे, जिन्होंने नानक शाही सिक्कों की शुरुआत की थी। मुगल शासक फर्रुखसियर ने उन्हें पकड़कर दिल्ली लाया और सबसे अमानवीय तरीके से मौत के घाट उतार दिया। यह शहादत महरौली में हुई जहां उनकी शहादत की याद में आज भी एक स्मारक खड़ा है, जो अनुकरणीय साहस, बहादुरी और धर्म में गहरी आस्था का प्रतीक है। वे गुरु गोविंद सिंह जी साहिब के एक महान और सच्चे शिष्य थे।

यह भी पढ़ें :   कोविड-19 टीकाकरण अपडेट- 441वां दिन

संभवतः यह पहला मौका है, जब भारतीय गणतंत्र इस महान शहीद के शौर्य और बलिदान को नमन कर रहा है।

नई दिल्ली का लाल किला वह स्थान है, जहां से मुगलों ने उनकी हत्या के लिए फरमान दिया था।

 

***

एमजी/एएम/एसकेएस

यह भी देखें :   Gangapur City : शुरू हुआ रमजान का पाक महीना, समाज ने आपसी सहयोग और शांति बनायें | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

यह भी पढ़ें :   राष्ट्रीय स्मारक प्राधिकरण (एनएमए) अरुणाचल प्रदेश और गुजरात के बीच रुक्मिणी कृष्ण यात्रा को मजबूती प्रदान करेगा
क्लिक करें