Indian Railways : लोंग हौल के लिए घंटों खड़ा रखा जाता है कोयले की मालगाड़ियों को

Indian Railways : लोंग हौल के लिए घंटों खड़ा रखा जाता है कोयले की मालगाड़ियों को

Indian Railways : लोंग हौल के लिए घंटों खड़ा रखा जाता है कोयले की मालगाड़ियों

को, बिजली संकट में भी नहीं हुआ सुधार

Kota Rail News : कोयले की माल गाड़ियों को जल्द से जल्द अपने गंतव्य तक पहुंचाने के लिए एक तरफ रेलवे द्वारा सवारी गाड़ियों तक को रद्द कर दिया गया है, वहीं दूसरी ओर कोटा मंडल द्वारा लोंग हौल के चक्कर में कोयले की मालगाड़ियों को घंटों खड़ा रहा जाता है। इससे कोयला आपूर्ति के लिए मालगाड़ियां समय पर उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। बिजली संकट के समय में भी इस व्यवस्था में कोई सुधार देखने को नहीं मिल रहा है।
सूत्रों ने बताया कि सालपुरा थर्मल में मालगाड़ी से रोजाना कोयला आता है। इसके बाद यहां खाली हुई दो मालगाड़ियों को आपस में जोड़कर (लोंग हौल) वापस रवाना किया जाता है। लेकिन इस लोंग हौल के चक्कर में सालपुरा में खाली माल गाड़ियों को रोजाना 6 से 7 घंटे तक खड़ा रहा जाता है। सूत्रों ने बताया कि कई बार इस से भी अधिक समय लग जाता है। ऐसे में खड़ी-खड़ी ट्रेन के गार्ड-ड्राइवर तक बदलने पड़ते हैं।
इतना ही नहीं लोंग हौल के चक्कर में कई बार सवारी गाड़ियां को आउटर पर घंटों खड़ा रखा जाता है। इससे इस भीषण गर्मी में यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है।
सागर में हो जाती है अलग
सूत्रों ने बताया कि लोंग हौल गाड़ी को सागर में जाकर अलग-अलग कर दिया जाता है। सूत्रों ने बताया कि लोंग हौल के लिए जितनी देर मालगाड़ियां सालपुरा स्टेशन पर खड़ी रहती इतनी देर में अकेली मालगाड़ी सागर स्टेशन तक आसानी से पहुंच सकती है। लेकिन इसके बाद भी अधिकारियों द्वारा जबरन लोंग हौल बनवाया जाता है।

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें