Indian Railways : रेलवे अस्पताल में खुलेगी हेल्प डेस्क, खबर का असर

Indian Railways : रेलवे अस्पताल में खुलेगी हेल्प डेस्क

Indian Railways : रेलवे अस्पताल में खुलेगी हेल्प डेस्क, खबर का असर

Kota Rail News :  मंडल रेल चिकित्सालय में जल्द ही हेल्प डेस्क खोली जाएगी। इस हेल्प डेस्क पर परिजनों सहित बीमार कर्मचारियों की समस्याओं, शिकायतें और सुझावों को नोट किया जाएगा। कर्मचारियों की दवाइयां और इलाज संबंधित शिकायतों का निवारण तुरंत किया जाएगा।
इस हेल्प डेस्क पर कर्मचारियों की सुविधाओं के लिए एक फोन नंबर की भी व्यवस्था की जाएगी। ताकि कर्मचारियों को अनावश्यक अस्पताल के चक्कर नहीं लगाने पड़े। इस हेल्प डेक्स पर डॉक्टर और विभिन्न कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधि बैठेंगे।
उल्लेखनीय है कि अभी इस तरह की हेल्प डेस्क भोपाल रेलवे अस्पताल में काम कर रही है। इसी तर्ज पर कोटा में भी यह हेल्प डेस्क खोली जाएगी।
5 डॉक्टर तथा 14 अधिकारी पुरस्कृत
पश्चिम-मध्य रेलवे जबलपुर मुख्यालय में सोमवार को मुख्य चिकित्सा निदेशक रेल सप्ताह सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह में मुख्यालय, कोटा, भोपाल और जबलपुर मंडल के 5 डॉक्टर 14 कर्मचारियों को सम्मानित किया गया। साथ ही पांच सामूहिक पुरस्कार भी बांटे गए।
मुख्य चिकित्सा निदेशक एचके श्रीवास्तव ने डाॅक्टर्स, नर्सिंग स्टाॅफ, फार्मासिस्ट, अस्पताल परिचर, स्टोर खलासी को प्रशस्ति-पत्र भेंट कर सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में कोटा मण्डल के जयपाल सिंह और नासिर भी शामिल थे।
खबर का असर
उल्लेखनीय है कि अस्पताल में कर्मचारियों को इलाज और दवाइयों के लिए भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। दवाइयों के लिए कर्मचारियों को बार-बार अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ते हैं। स्पेशलिस्ट डॉक्टर समय पर नहीं मिलते हैं।
‘कोटा रेल न्यूज’ द्वारा इस मुद्दे को लगातार उठाया जाता रहा है। विभिन्न कर्मचारी संगठनों द्वारा भी प्रशासन को इस मामले में कई बार अवगत कराया जा चुका है। पिछले सप्ताह वर्कशॉप में रेलवे एम्पलाई यूनियन शाखा द्वारा एक बैठक में भी यह मुद्दा जोर-शोर से उठा था। ‘कोटा रेल न्यूज’ ने इस मुद्दे को प्रमुखता से प्रकाशित किया था।
इसके बाद हरकत में आए प्रशासन ने अस्पताल में हेल्प डेस्क खोलने का निर्णय लिया।

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें