fbpx
Breaking News

पर्यावरण सुरक्षा के लिये लाभकारी साबित होगा ई रिक्शा — जिला कलक्टर

जिला कलक्टर ने ई रिक्शा को बताया पर्यावरण अनुकूल
पर्यावरण सुरक्षा के लिये लाभकारी साबित होगा ई रिक्शा — जिला कलक्टर
दौसा, 8 दिसम्बर। जिला कलक्टर पीयुष समारिया ने बताया कि इलेक्टि्रक आटो रिक्शा प्रणोदन का एकमात्र साधन एक या एक से अधिक इलेक्टि्रक मोटर हैं। पैडल और सहायक इलेक्टि्रक मोटर दोनों से सुसज्जित मानव-संचालित साइकिल रिक्शा (पेडीकैब) के लिए, विद्युत-सहायता चक्र रिक्शा संचालित किया गया है। उन्होने ई रिक्शा में बैठ कर ड्राइविंग करते हुये बताया कि पर्यावरण सुरक्षा के लिये यह लाभकारी साबित होगा।
मंगलवार को कलेक्टेट परिसर में ई रिक्शा रैली को हरि झंडी दिखा कर रवाना करने के बाद ई रिक्शा के बारे में पूर्ण जानकारी ली तथा स्वंय ने चला कर भी देखा। उन्होने बताया कि भारत में ई-रिक्शा बाजार का विकास वित्त वर्ष 2018 में ई-रिक्शा उत्पादन के रूप में हुआ है। ई-रिक्शा ने अब देश के आटोमोबाइल सेगमेंट में बाजार में प्रवेश करने से एक अग्रणी लघु परिवहन समाधान के रूप में विकसित होने के लिए संक्रमण किया है।इस क्षेत्र में पिछले तीन वषोर्ं में तेजी आई है और वृद्धि अभूतपूर्व रही है।
उन्होने बताया कि कुछ शहरों में आटो रिक्शा और विकल्प के रूप में लोकप्रिय हो रहे हैं। खींचे गए रिक्शा की वजह से कम रिक्शा और कम मानवीय प्रयास के कारण रिक्शा खींचे गए। उन्हें पेट्रोल ,डीजल ,सीएनजी आटो रिक्शा के विकल्प के रूप में व्यापक रूप से स्वीकार किया जा रहा है। वे 650-1400 वाट से लेकर इलेक्टि्रक मोटर द्वारा संचालित तीन-पहिया वाहन हैं। यदि विशेषज्ञों के अनुसार व्यवस्थित तरीके से पेश किया जाए तो बैटरी से चलने वाले रिक्शा निम्न-आय वाले लोगों के लिए कम-कम पूरक पूरक परिवहन हो सकते हैं, जो परिवहन सुविधा की कमी से सबसे ज्यादा पीड़ित हैं। इलेक्टि्रक आटोमोबाइल आसानी से परिवहन के एक व्यवहार्य साधन के रूप में विकसित नहीं हुआ। इलेक्टि्रक आटोमोबाइल प्रदूषण के पर्यावरणीय मुद्दों और प्राकृतिक संसाधनों के ह््रास के कारण अनुसंधान ने परिवहन के अधिक पर्यावरण अनुकूल साधनों की आवश्यकता को कम किया।
इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर लोकेश कुमार मीना, एडीपीआर रामजी लाल मीना, स्वीप प्रभारी महेश आचार्य, पत्रकार संतोष तिवाडी, संदीप मीना,आशीष शर्मा,जसवीर सिंह गुर्जर, भास्कर जैमन सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe

Check Also

क्या लोगों की जान से ज्यादा है धरना प्रदर्शन।

किसानों के बॉर्डर जाम से दिल्ली में ऑक्सीजन पहुंचने में देरी। ऑक्सीजन के टैंकर जाम …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *