बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय

📔 बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय: BTU ने सालभर ऑनलाइन पढ़ाई करवाई, अब परीक्षा ऑफलाइन लेने की तैयारी, स्टूडेंट्स ने किया विरोध

बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के अधीन राज्य के 42 इंजीनियरिंग कॉलेज है….

बीकानेर।
कोरोना काल में इंजीनियरिंग छात्रों को ऑनलाइन पढ़ने के लिए मजबूर करने वाले टेक्निकल यूनिवर्सिटी के पास परीक्षा ऑनलाइन लेने की सुविधा नहीं है। ऐसे में बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के छात्रों ने मोर्चा खोल दिया है। छात्रों का कहना है कि जब पढ़ाया ऑनलाइन है तो परीक्षा ऑफलाइन क्यों ली जा रही है? न सिर्फ बीकानेर का तकनीकी विश्वविद्यालय बल्कि कोटा का तकनीकी विश्वविद्यालय भी ऑफ लाइन परीक्षा ही लेने को मजबूर है।

बीकानेर टेक्निकल यूनिवर्सिटी (BTU) ने पिछले दिनों बीटेक के तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम घोषित किया था। इसके लिए परीक्षा केंद्र भी निर्धारित कर दिए गए। उधर, छात्रों ने मांग रख दी कि जब पढ़ाई ऑनलाइन हुई तो परीक्षा भी ऑनलाइन ही होनी चाहिए। राजस्थान के करीब 8 जिलों की 42 इंजीनियरिंग कॉलेज इस विश्वविद्यालय से जुड़ी हुई है। इसमें हजारों की संख्या विद्यार्थी जुड़े हुए हैं। बीकानेर के अलावा जोधपुर, अजमेर, अलवर, सीकर, श्रीगंगानगर और बाडमेर में स्थित सरकारी व निजी इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र BTU से जुड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें :   282 करोड़ से एनआईसीयू, पीआईसीयू, आईसीयू, ऑक्सीजन प्लांट कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास राजस्थान तीसरी लहर का मुकाबला करने में सक्षम ः मुख्यमंत्री

सोमवार को छात्रों ने विश्वविद्यालय के मुख्यद्वार पर प्रदर्शन करके विरोध जताया। उनकी मांग है कि ऑफलाइन के बजाय ऑनलाइन परीक्षा ली लाए। अगर ऑनलाइन व्यवस्था नहीं है तो ऑफ लाइन के लिए बच्चों को अतिरिक्त समय दिया जाए।

राज्य सरकार के आदेश
इस विरोध के बाद विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग ने कुलपति एचडी चारण को रिपोर्ट भेज दी है। विश्वविद्यालय ने इस बारे में राज्य सरकार को पत्र लिखा। राज्य सरकार ने भी शिक्षा की गुणवत्ता को ध्यान में रखते परीक्षा करवाने के आदेश कर दिए। अब तो वैसे भी राज्य में सभी स्कूल व कॉलेज खोलने के आदेश हो गए।

यह भी पढ़ें :   स्टूडेंट्स को परीक्षा तिथि चुनने का मौका

कुलपति का कहना है

विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एचडी चारण का कहना है कि बच्चों का शिक्षा सत्र जुलाई में शुरू हो गया था। सरकार ने अब कॉलेज में नियमित पढ़ाई के आदेश कर दिए हैं। ऐसे में कोई कारण नहीं रह जाता कि परीक्षा नहीं करवाई जाए। उन्होंने माना कि हमारे पास इतना संसाधन नहीं है कि बच्चों की परीक्षा भी ऑनलाइन आयोजित करवा लें।

📔🏆 शिक्षा विभाग समाचार 🏆📔