Alwar : 16 महीने से एनक्लोजर में बंद टाइगर ST-6 की मौत।

Alwar : 16 महीने से एनक्लोजर में बंद टाइगर ST-6 की मौत।

Alwar : 16 महीने से एनक्लोजर में बंद टाइगर ST-6 की मौत।

अलवर : सरिस्का से एक और बुरी खबर है। सबसे खूंखार टाइगर एसटी-6 की मौत हो गई। टाइगर बूढ़ा हो गया था। जिसे 23 फरवरी 2011 को केवलादेव भरतपुर से अलवर लाया गया था। जिसकी करीब 16 साल की उम्र में मौत हुई है। पहले एसटी – 4 और एसटी- 6 के झगड़े के बाद टाइगर एसटी-4 की मौत हो गई थी। लेकिन बाद में एसटी-6 के पीठ पर घाव हो गए थे। जब टाइगर की हालत नाजुक होती गई तो उसे नवम्बर 2020 से एनक्लॉजर में रखा गया था। अब उसकी मौत हो गई है। जानकारी में यह भी आ रहा है कि टाइगर को एनक्लॉजर में पूरा खाना नहीं मिला। रात को ही टाइगर की मौत हो गई। लेकिन अधिकारियों ने ऐसा मानने से इंकार किया है।

यह भी पढ़ें :   अपहरण के बाद युवक की हत्या करने का मामला

पहले एसटी-1 की मौत, 4 व 6 भी गए
अलवर सरिस्का में एसटी 1 का शिकार हो गया। इसके बाद एसटी 4 झगड़े में मारा गया। अब एसटी- 6 की मौत हो गई। एसटी 2 और एसटी 3 अभी जंगल में हैं। ये दोनों फीमेल हैं।

एक नंबर और कम
अलवर सरिस्का में शावक 7 हैं, मेल 7 हैं और 11 फीमले हैं। एक मेल और कम हो गया। पिछले तीन महीने में दो मेल टाइगर कम हो गए। खास चिंता की बात यह है कि टाइगर एसटी-13 सबसे ताकतवर टाइगर था। जिसके सरिस्का में करीब 11 से 12 शावक हैं। अब सरिस्का में कुल 25 टाइगर बचे हैं।

3 महीने पहले एसटी – 13 गायब
सरिस्का में टाइगर एसटी – 13 तीन महीने पहले से गायब है। जिसका कोई सबूत नहीं मिला है। अब उसे मृत मान लिया गया है। जानकारों का कहना है कि टाइगर एसटी – 13 का शिकार हो गया है। लेकिन वन प्रशासन का कहना है कि टाइगर की मौत या शिकार के कोई सबूत नहीं मिले हैं। इसलिए अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें :   गोविन्दगढ से भरतपुर तक के लिये  बस सेवा चलाये जाने का वर्तमान में विचार नहीं - परिवहन मंत्री

2008 से विस्थापन
सरिस्का 2004-05 में टाइगर विहीन हो गया था। उसके बाद 2008 में यहां टाइगर को लाकर बसाया जाने लगा। उसके बाद से लगातार टाइगर की संख्या बढ़ी है। लेकिन अब वापस सरिस्का में टाइगर की मौत व गायब होने शुरू हुआ। पहले टाइगर एसटी – 5 गायब हो गई। अब टाइगर एसटी – 13 गायब हुआ। बीच में दो-तीन टाइगर का शिकार हो गया।

यह भी देखें :   Tonk : सिपाही ने कर्तव्य के साथ दिखाई मानवता | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें