ऑनलाइन ई-चालान से सिस्टम में आएगी पारदर्शिता - परिवहन मंत्री

ऑनलाइन ई-चालान से सिस्टम में आएगी पारदर्शिता – परिवहन मंत्री

परिवहन विभाग एवं एसबीआई के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर
ऑनलाइन ई-चालान से सिस्टम में आएगी पारदर्शिता
– परिवहन मंत्री
जयपुर, 2 दिसबंर। परिवहन मंत्री श्री प्रताप सिंह खाचरियावास के समक्ष बुधवार को परिवहन भवन में परिवहन विभाग एवं एसबीआई के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। इस एमओयू के माध्यम से एसबीआई विभाग को 500 पॉस मशीन वितरित करेगा।
इस अवसर पर श्री खाचरियावास ने कहा कि राजस्थान पहला ऎसा राज्य है जहां पीओएस मशीन से ई- चालान होगा जिससे सिस्टम में पारदर्शिता आएगी। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा निरन्तर नए नवाचार कर पारदर्शिता लाने का कार्य किया जा रहा है इसी कड़ी में एसबीआई से पॉस मशीन के लिए एमओयू किया गया है। उन्होंने कहा कि इस मशीन के माध्यम से ई- चालान रिअल टाइम में देखे जा सकेंगें। उन्होंने कहा कि ई- चालान से विभाग की कार्यप्रणाली में सुधार होगा तथा सकारात्मक छवि बनेगी।
परिवहन आयुक्त श्री रवि जैन ने कहा कि यह विभाग के लिए ऎतिहासिक अवसर है जब इस तरह का नवाचार विभाग द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि फील्ड में इंस्पेक्टर को मैन्युअल रुप से चालान करते समय काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है तथा उपभोक्ताओं के पास भी कभी- कभी कैश की उपलब्धता की समस्या होती है। इन सभी समस्याओं का पॉस मशीन से हल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर कोई पॉस मशीन खराब हो जाती है तो उसे भी एसबीआई द्वारा तुरन्त बदल दिया जाएगा।
एसबीआई के मुख्य महाप्रबंधक श्री अमिताभ बनर्जी ने कहा कि पॉस मशीन द्वारा ई- चालान का कार्य कैशलेस तरीके से होगा जिससे मौद्रिक लेन देन में पारदर्शिता आएगी तथा सिस्टम प्रभावी तरीके से कार्य करेगा। उन्होंने कहा कि ई- चालान बैंक के खाते में डिपोजिट होगा तथा इसमें ऑनलाइन रसीद प्राप्त हो जाएगी तथा प्रत्येक चालान की नियमित जानकारी रियल टाइम में विभाग को प्राप्त हो जाएगी।
कार्यक्रम में श्री खाचरियावास ने विभाग के सब इंस्पेक्टर तथा इस्पेक्टर को पॉस मशीन भी वितरित की। कार्यक्रम के अंत में अपर परिवहन आयुक्त (प्रशासन) श्री महेन्द्र कुमार खींची ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में अपर परिवहन आयुक्त (प्रवर्तन) श्री आकाश तोमर, विभागीय अधिकारी तथा एसबीआई के अधिकारी मौजूद थे।

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें