fbpx
Breaking News

पशुओं को मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए एडवाईजरी-गंगापुर सिटी

पशुओं को मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए एडवाईजरी-गंगापुर सिटी

पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. ओ.पी. गुप्ता ने बताया है कि सामान्यत: मार्च माह मे सर्दी कम होने लगती है, इस बदलते मौसम में पशुओं मे संक्रमण का खतरा बहुत अधिक होता है। पशुपालक, पशुओ का रात के समय सर्दी से व दिन के समय गर्मी से आवश्यकता अनुसार बचाव का समुचित प्रबंधन करें। इस संबंध में पशुपालकों के लिए एडवाईजरी जारी की है।पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक ने बताया कि दुग्ध उत्पादन मे कमी अथवा किसी बीमारी के लक्षण दिखाई देने की स्थिति मे निकटतम पशु चिकित्सक से संपर्क करें। पशुपालक इस महीने मे फडकिया, गलघोंटू, लंगडा बुखार, ठप्पा रोग, खुरपका-मुंहपका आदि के टीके आवश्यक रुप से लगवायें ताकि आने वाले महीनों मे होने वाले इन रोगो से बचाव हो सके। पशुओ को परजीवी प्रकोप से बचाने के लिए पशु चिकित्सक की सलाहनुसार परजीवी नाशक घोल या दवा देवें जिससे पशुओ का स्वास्थ्य सुधार हो एवं चारे-दाने का सद्पयोग हो सके।उन्होंने बताया कि पशुओ को घुटन भरे स्थान मे ना रखे और विशेषत: धुए से बचाए अन्यथा पशुओ को सांस की तकलीफ हो सकती है। मच्छर, मक्खी, चिंचड आदि जीवों की संख्या मे तेजी से वृद्वि हो रही है, पशुपालको को चाहिये की पशु बाडे के आस-पास गंदा पानी एकत्र ना होने दें ताकि इस मच्छर, कीट इत्यादि को पनपने व इनसे फैलने वाले रक्त-परजीवी रोग जैसे कि थाइलेरिया, ट्रीपेनोसोंमा, बबेसिया इत्यादि से बचाया जा सके।

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe

Check Also

राजश्री योजना के तहत 98.1 प्रतिशत बालिकाएं लाभान्वित-महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री

राजश्री योजना के तहत पाली में 98.1 प्रतिशत बालिकाएं लाभान्वित-महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *