Tonk : औचक निरीक्षण में स्कूलों की खुली पोल तो जिला कलेक्टर ने 5 शिक्षकों को किया तत्काल सस्पेंड

Tonk : औचक निरीक्षण में स्कूलों की खुली पोल तो जिला कलेक्टर ने 5 शिक्षकों को किया तत्काल सस्पेंड

Tonk : औचक निरीक्षण में स्कूलों की खुली पोल तो जिला कलेक्टर ने 5 शिक्षकों को

किया तत्काल सस्पेंड

टोंक के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की मनमानी और अनियमित्ता की शिकायतों के बाद अब कलेक्टर चिनमयी एक्शन में आ गई है। लगातार सरकारी स्कूलों के औचक निरीक्षण कर रही है। इसके साथ ही स्थानीय अधिकारियों को भी निरीक्षण कर कार्रवाई के निर्देश दिए है। और कोशिश कर रही है कि लापरवाह शिक्षकों पर नकेल कसी जाए।

 दरअसल टोंक जिले में प्राथमिक सरकारी स्कूलों से लेकर सीनियर सैकंडरी स्कूलों तक शिक्षकों की मनमानी और लापरवाही किसी से छिपी नहीं है। अक्सर शिक्षकों की मनमानी और लापरवाही के खिलाफ ग्रामीणों और विद्यार्थियों का आक्रोश देखने को मिलता है। कई बार स्कूलों पर तालाबंदी करने के साथ शिक्षकों के खिलाफ नारेबाजी तक का विरोध प्रदर्शन होता है।
हद तो यह हो गई कि जब जिला कलेक्टर चिनमयी गोपाल ने बीते दिनों सरकारी स्कूलों का औचक निरीक्षण किया तो आठवी के बच्चों को प्राथमिक ज्ञान तक नहीं मिला। जिसके बाद जिला कलेक्टर चिनमयी गोपाल ने एक साथ पांच अलग अलग सरकारी स्कूलों के शिक्षकों की जिला शिक्षा अधिकारी से शिकायत कर निलम्बित करवा दिया। हद तो यह है कि टोडारायसिंह उपखंड अधिकारी ने भी जब सरकारी स्कूलों का निरीक्षण किया तो बदत्तर हालात नजर आए। पोषाहार तक में अऩियमितताएं मिली। जिसके बाद जिला कलेक्टर चिनमयी गोपाल ने जिला शिक्षा अधिकारी सहित तमाम उपखंड स्तरीय अधिकारियों को निर्देश देकर समय समय पर स्कूलों का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाए सुधारने के आदेश जारी किए है। वहीं मीडिया से मुखातिब होते हुए कलेक्टर गोपाल ने कहा कि स्कूलों में शिक्षकों को समय पर आना जरूरी है। जब शिक्षक ही समय पर नही आएंगे तो बच्चों को क्या शिक्षा देंगे। ऐसे में लापरवाह शिक्षकों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें