Pali : रविवार से वाटर ट्रेन के फेरे शुरू, रोज दो फेरों में आएगा 40 लाख लीटर पानी।

Pali : रविवार से वाटर ट्रेन के फेरे शुरू, रोज दो फेरों में आएगा

40 लाख लीटर पानी।

पाली में पेयजल आपूर्ति के लिए भगत की कोठी से वॉटर ट्रेन का पहला रैक रविवार को रवाना होगा। ट्रेन के संचालन से संबंधित सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। शुरुआत में ट्रेन के दो फेरे रोज होंगे जिससे प्रतिदिन 40 लाख लीटर पानी ट्रेन के जरिए पाली आएगा।

मंडल रेल प्रबंधक गीतिका पांडेय ने बताया कि पाली जिला प्रशासन की मांग के अनुरूप रेलवे ने भगत की कोठी से पाली तक पेयजल परिवहन की व्यवस्था सुनिश्चित कर ली है। रविवार सवा सात बजे राज्यसभा सांसद राजेंद्र गहलोत जोधपुर में भगत की कोठी रेलवे स्टेशन पर वॉटर ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। जोधपुर शहर विधायक मनीषा पंवार और नगर निगम (दक्षिण) की महापौर वनीता सेठ विशिष्ट अतिथि मौजूद रहेंगी। पीएचइडी के अधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद रहेंगे।

यह भी पढ़ें :   पांच वर्ष में भी पाली के युवक मनोहर के अपहरण का कोई सुराग नहीं लगा पाई राजस्थान पुलिस

पाली जिला प्रशासन की मांग के अनुरूप रेलवे ने शुरू में 40 वैगन का एक रैक उपलब्ध करवाया है जिसके प्रतिदिन दो फेरे होंगे तथा कोटा के कोच मरम्मत कारखाना से एक और रैक के उपलब्ध हो जाने के बाद मांग के अनुरूप दोनों रैकों का संचालन प्रतिदिन किया जाएगा। ऐसे में वॉटर ट्रेन के प्रतिदिन चार फेरे होंगे और इससे पाली को 80 लाख लीटर पानी की आपूर्ति प्रतिदिन हो सकेगी।

एक फेरे से मिलेंगे 3.24 लाख
भगत की कोठी स्टेशन से पाली तक वॉटर ट्रेन के एक रैक के संचालन से रेलवे को राज्य सरकार से प्रति फेरा तीन लाख 24 हजार रुपए का राजस्व बतौर वैगन किराया प्राप्त होगा तथा मांग के अनुरूप रैक और उसके फेरों में वृद्धि भी की जा सकेगी। इसे रेलवे का राजस्व भी बढ़ेगा।

पेयजल संकट में रेलवे राज्य सरकार के साथ
जोधपुर मंडल रेल प्रबंधक गीतिका पांडेय का कहना है कि पेयजल संकट में वॉटर ट्रेन संचालन को लेकर रेलवे राज्य सरकार के साथ है। पाली में पेयजल संकट की किसी भी स्थिति से निपटने के लिए रेलवे राज्य सरकार के साथ समन्वय स्थापित कर हर संभव मदद करेगा

यह भी पढ़ें :   Rajasthan : राजस्थान के लिए राहतभरी खबरः कोयले की पहुंची 23 रैक, निगम की दो और इकाइयों में देर रात तक उत्पादन हुआ शुरू।

पाली में पेयजल संकट इसलिए ट्रेन से जोधपुर से मंगवा रहे पानी
पाली जिले का एकमात्र पेयजल स्रोत जवाई बांध सूखा है। उसमें डेड स्टोरेज का पानी हैं। पाली शहर की जनसंख्या करीब 02 लाख 80 हजार है। जिनके हलक तर करने के लिए रोजाना करीब 25 MLD पानी की आवश्यकता हैं। वर्तमान में 12 एमएलडी पानी जवाई बांध व बाणियावास बांध से ले रहे हैं। 5 एमएलडी पानी शहर के ट्यूबवेलों से ले रहे हैं। शेष 8 एमएलडी पानी वॉटर ट्रेन के जरिए जोधपुर से आएगा। जिससे पाली शहरवासियों को पर्याप्त पेयजल मिल सकेगा।