सात नक्सलियों को ढेर करने वाला जवान गहलोत सरकार के खिलाफ बैठा अनशन पर, सरकारी नौकरियों में धांधली का लगाया आरोप।

सात नक्सलियों को ढेर करने वाला जवान गहलोत सरकार के खिलाफ बैठा अनशन पर, सरकारी नौकरियों में धांधली का लगाया आरोप।

झुंझुनू : सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट शौर्य चक्र विजेता विकास जाखड़ ने मंगलवार को आमरण अनशन शुरू कर दिया। वे अपने गांव जाखड़ों का बास में ही अनशन पर बैठे। जाखड़ का साथ देने के लिए राजस्थान के कई जिलों से युवा भी पहुंचे। जाखड़ रीट समेत कई सरकारी नौकरियों में धांधली को लेकर सरकार के खिलाफ अनशन कर रहे हैं। विकास जाखड़ सीआरपीएफ से इस्तीफा भी दे चुके है, लेकिन उनका इस्तीफा मंजूर नहीं हुआ है। बता दें कि विकास जाखड़ ने नवंबर 2016 में झारखंड के लातेहर में सात नक्सलियों को मार गिराया था।जाखड़ ने कहा कि कुछ सालों से राजस्थान में भर्तियों में लगातार बड़े स्तर पर घोटाले हो रहे हैं। पढ़ने वाले युवाओं का नम्बर नहीं आता है। राजनेताओं से सम्बन्ध रखने वाले नौकरी पर लग जाते हैं। उन्होंने कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती, तब तक अनशन जारी रहेगा।शौर्य चक्र विजेता विकास जाखड़ के साथ बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने समर्थन दिया। विकास जाखड़ रात को भी धरना स्थल पर अपने समर्थकों के साथ मौजूद रहे। जाखड़ के साथ सवाई माधोपुर से संजुलता मीणा, सीकर से सुमित शर्मा, जालौर से योगेश, जयपुर से रूप से सिंह, मुकेश, राजेश, अर्जुन, हरकेश सहित काफी संख्या में युवक समर्थन देने गांव पहुंचे।

यह भी पढ़ें :   मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा के बयान से राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और बसपा प्रमुख मायावती को अपनी राजनीतिक हैसियत का अंदाजा लगा लेना चाहिए।

यह भी देखें :   Gangapur City : लाइव देखने के बाद बच्ची के परिजनों का आया फोन, खबर का हुआ असर | G News Portal

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें