fbpx
Breaking News
रोजगार की स्थानीय मांग के अनुरूप युवाओं को मिले प्रशिक्षण - राव

रोजगार की स्थानीय मांग के अनुरूप युवाओं को मिले प्रशिक्षण – राव

रोजगार की स्थानीय मांग के अनुरूप युवाओं को मिले प्रशिक्षण – राव

बारां, 5 दिसम्बर। जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव ने कहा कि जिले के युवाओं व उद्योग संस्थानों की आवश्यकता के अनुरूप कौशल विकास के प्रशिक्षणों का आयोजन कर युवाओं को कौशल विकास योजनाओं का बेहतर लाभ पहुंचाया जा सकता है। इसके लिए स्थानीय मांग के अनुसार प्रशिक्षणों का चयन हो जिससे अधिकतम युवा स्वरोजगार से आजीविका प्राप्त कर सके।
जिला कलक्टर ने यह बात शुक्रवार शाम मिनी सचिवालय के सभागार में राजस्थान कौशल एवं आजीविका निगम के तहत जिला कौशल समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। उन्होंने कहा कि कौशल विकास के तहत शुरू होने वाली पीएमकेवीवाई 3.0 में योजना में युवाओं को स्वरोजगार के माध्यम से वास्तविक लाभा दिलाने के लिए ऐसे प्रशिक्षणों तथा प्रशिक्षण संस्थानों का चयन किया जाए जो स्थानीय युवाओं व औद्योगिक संस्थानों की आवश्यकताओं को पुरा कर सके। इसके लिए कौशन उद्यमिता मंत्रालय की ओर से आकांक्षीय कौशल विकास अभियान के अन्तर्गत प्राप्त 10 लाख रूपए की राशि से तहसील स्तर पर सर्वे कर टेªड की मांग का आंकलन किया जाए ताकि उसके अनुरूप प्रशिक्षण का चयन कर युवाओं में उपयोगिता के आधार पर आजीविका कौशल का विकास किया जा सके और वे आजीविका प्राप्त कर अपने परिवार को पालन पोषण करने योग्य बन सके। जिला कलक्टर ने कहा कि इसके लिए औद्योगिक संस्थानों, स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों सहित समुदायों के साथ सम्पर्क स्थापित कर रोजगार के लिए वास्तविक मांग का पता किया जाए। जिला कलक्टर ने कहा कि कौशल विकास योजनाओं का युवाओं को बेहतर लाभ देने के लिए जिला कौशल समिति द्वारा ही कौशल टेªड प्रशिक्षणों का निर्धारण किया जाएगा। इसके तहत इसकी क्रियान्विती से लेकर युवाओं को रोजगार प्राप्ति तक मॉनिटरिंग की जाएगी। कलक्टर राव ने कहा कि जिले के युवाओं के लिए रेफ्रिजरेशन, कारपेन्टरी, मोटर वाइंडिंग, लाईट फिटिंग, अचार, पापड़, हथकरघा सहित अन्य टेªड युवाओं के लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं। बैठक में एमजीएन फैलो कैशव श्रीवास्तव ने नीति आयोग के बिन्दुओं के अनुरूप जिले के कौशल विकास के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत की। बैठक में जिला अग्रणी प्रबंधक हरचंद मीणा, उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक ताराचंद जैन, जिला कौशल समन्वयक आकाश वर्मा, आईटीआई के गजेन्द्र व्यास, रूडसेट निदेशक जगदीश, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के वाईपी अवध मीणा, मॉडल करियर सेन्टर के मेनेजर लोकेश नागर आदि उपस्थित थे।

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe

Check Also

18 वर्ष वालों को वैक्सीन लगाने के लिए 200 करोड़ डोजेज चाहिए।

18 वर्ष वालों को वैक्सीन लगाने के लिए 200 करोड़ डोजेज चाहिए। नेगेटिव रिपोर्ट के …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *