राज्य के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में अनुसंधान क्षमताओं को बढ़ाने के लिए नई योजना शुरू की गई

अनुसंधान क्षमताओं को संरचित तरीके से बढ़ाने के लिए एक नई योजना शुरू की गई थी ताकि राज्य और निजी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के अलावा इन विश्‍वविद्यालयों के अंतर्गत कार्यरत स्‍ववित्‍तीय संस्‍थानों में एक मजबूत आरएंडडी इकोसिस्‍टम बनाया जा सके।

स्टेट यूनिवर्सिटी रिसर्च एक्सीलेंस (एसईआरबी-एसयूआरई) विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (एसईआरबी) की एक नई अभिनव योजना है, जो विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) का एक वैधानिक निकाय है। यह राज्य और निजी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में गुणवत्‍तापूर्ण अनुसंधान के लिए सहयोग को बढ़ावा दे सकता है।

एसईआरबी के अध्यक्ष और विज्ञान और प्रौद्योगिकी (डीएसटी) विभाग के सचिव डॉ. श्रीवरी चंद्रशेखर ने कार्यक्रम के शुभारंभ पर कहा, “नई योजना विश्वविद्यालय प्रणाली को मुख्य अनुसंधान में लाने में मदद करेगी और वहां के युवा संकाय को अत्याधुनिक अनुसंधान में भाग लेने में सक्षम बनाएगी जो अब तक ज्यादातर शिक्षण तक ही सीमित थी।” उन्होंने कहा कि नया कार्यक्रम, जो डेटा-संचालित सामाजिक विज्ञान अनुसंधान का भी समर्थन करेगा, हमारे विश्वविद्यालयों में अंतर्निहित क्षमता के लिए एक बड़ा प्रोत्साहन होगा।

यह भी पढ़ें :   अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष श्री पीटर ड्यूटन के साथ द्विपक्षीय बैठक के बाद रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह का प्रेस वक्तव्य

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अध्यक्ष, प्रोफेसर एम. जगदीश कुमार ने कहा कि यह योजना राज्य विश्वविद्यालयों के संकायों को बहुत आवश्यक अनुसंधान अवसर प्रदान करेगी, जिनमें से 45 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित हैं। उन्होंने परियोजनाओं के प्रस्तावों, खरीद और प्रबंधन के बारे में लिखने और प्रस्तुत करने के लिए विश्वविद्यालयों के संकाय को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

परमाणु ऊर्जा विभाग के सचिव के.एन.व्यास ने कहा, “चूंकि बड़ी संख्या में राज्य विश्वविद्यालय ग्रामीण पृष्ठभूमि में हैं, वे जमीनी स्तर के अनुसंधान में भी भाग ले सकते हैं जिससे स्थानीय उद्योग और स्थानीय किसानों को लाभ होगा और जमीनी स्तर की समस्याओं के लिए अभिनव समाधान की आवश्यकता होगी।”

एसईआरबी के सचिव प्रोफेसर संदीप वर्मा ने कहा, “इस योजना में, राज्य के विश्वविद्यालयों में अनुसंधान के वित्तपोषण को सुरक्षित करने के लिए प्रतिस्पर्धात्मक प्रतियोगिता होगी, और राज्य शोध क्षमताओं को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उन्नत करने के लिए विश्वविद्यालयों में अनुसंधान इकोसिस्टम को मजबूत करने के लिए महत्वपूर्ण अवसर पेश करेंगे।”

यह भी पढ़ें :   प्रधानमंत्री 20 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश की यात्रा पर जायेंगे और कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे

इन संस्थानों में मौजूदा अनुसंधान क्षमताओं का विकास अनिवार्य है ताकि राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास इकोसिस्टम में योगदान की उम्मीद कर रहे सभी शोध छात्रों तक अनुसंधान उत्कृष्टता का क्षैतिज प्रसार सुनिश्चित हो सके। इससे वैज्ञानिक स्वभाव को बढ़ावा देने और एसईआरबी समर्थन के माध्यम से गुणवत्ता में वृद्धि को बढ़ावा मिल सकेगा।

एसईआरबी-एसयूआरई योजना विज्ञान, इंजीनियरिंग और मात्रात्मक सामाजिक विज्ञान के अग्रणी क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास करने के लिए, भारत भर में इन विश्वविद्यालयों के भीतर काम कर रहे स्व-वित्तपोषित संस्थानों सहित राज्य और निजी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों से संबंधित सक्रिय शोधकर्ताओं को अनुसंधान सहायता प्रदान करती है।

 

 

****

एमजी/एएम/केपी/डीए

यह भी देखें :   Live : 4 महीने से नहीं मिली सैलरी, कर्मचारियों को अधिकारी टाल रहे इधर से उधर | Breaking News Live

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें