fbpx
बुधवार , जनवरी 19 2022
Breaking News

स्पर्श और ध्वनिक सेंसर में संभावित अनुप्रयोगों के लिए विकसित विशेष इलेक्ट्रो-सक्रिय नैनो कणों को विकसित किया गया

वैज्ञानिकों ने पॉलीविनाईलिडीन फ्लोराइड (पीवीडीएफ) नैनोकणों में अब तक के न्यूनतम संभव विद्युत क्षेत्र में δ चरण  हासिल किया है, जो पारंपरिक विधियों  की तुलना में 103 अर्थात 1000 गुना कम विद्युत क्षेत्र है। यह अनुप्रयोग आधारित वाणिज्यिक प्रौद्योगिकियों के लिए इस खोज को और अधिक सुविधाजनक बनाता है। यह उपलब्धि हाल ही में ‘एप्लाइड फिजिकल लेटर्स’ जर्नल में प्रकाशित हुई है ।

 

इस प्रयास में लगे वैज्ञानिकों में से एक डॉ. मंडल ने बताया कि “नई विधि न केवल पीवीडीएफ में अब तक के सबसे कम संभव विद्युत क्षेत्र के अंतर्गत  पीजोइलेक्ट्रिक δ -चरण को प्रेरित करने का एक उत्कृष्ट तरीका प्रदान करती है बल्कि यह एक एकल चरण प्रक्रिया में नैनोस्ट्रक्चर की आकारिकी को नियंत्रित करने में भी सक्षम बनाती है। इसलिए यह कार्य इस क्षेत्र में नैनो तकनीक के उपयोग की संभावनाओं का मार्ग प्रशस्त करेगा और डेल्टा चरण के अनुप्रयोग पर और अधिक ऐसी संभावनाएं तलाशेगा जो इससे पहले उच्च विद्युत क्षेत्र की आवश्यकता के कारण रुकी  हुई थी। साथ ही यह केवल फिल्म-आधारित नमूनों तक ही सीमित था। इसलिए जैसा कि हमने तय किया था कि हम अब इसे नवीनता और मौजूदा तकनीक के संदर्भ में 10/10 अंक देंगे”।

 

अनुप्रयोग-आधारित संभावनाएं पहले उच्च विद्युत क्षेत्र की आवश्यकता के कारण होती थीं। इसके अलावा, अनुप्रयोग भी फिल्म-आधारित उपकरणों तक सीमित थे। वर्तमान निष्कर्ष इससे आगे जाते हैं और कमरे के तापमान पर नई प्रसंस्करण तकनीक के साथ-साथ इस चरण के विभिन्न नैनोस्ट्रक्चर निर्माण का भी पता लगाते हैं।

 

इस अवधारणा के साक्ष्य के रूप में नैनो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (आईएनएसटी) के वैज्ञानिकों ने प्रेशर मैपिंग सेंसर, ध्वनिक (एकॉस्टिक) सेंसर, और पीजोइलेक्ट्रिक ऊर्जा संचयन (एनर्जी हार्वेस्टर) के रूप में कुछ अनुप्रयोगों को भी दिखाया है। इन नैनोकणों के पीजोइलेक्ट्रिक गुणों के अनुप्रयोग को प्रदर्शित करने के लिए एक पीजोइलेक्ट्रिक नैनो जेनरेटर भी विकसित किया  गया था और प्रेशर मैपिंग सेंसर, एकॉस्टिक सेंसर एवं ऊर्जा संचयन अध्ययनों के रूप में इसके व्यावहारिक अनुप्रयोगों का प्रदर्शन किया गया था।   इस उपकरण की उच्च ध्वनिक संवेदनशीलता ध्वनिक शोर, भाषण संकेतों, श्वसन गति की पहचान क्षमता को इंगित करने के साथ ही इसकी प्रौद्योगिक प्रयोज्यता का भी विस्तार  करती है। इसके अलावा, नैनो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (आईएनएसटी) टीम ने पॉलीविनाईलिडीन फ्लोराइड (पीवीडीएफ) नैनोकणों के  δ -चरण का उपयोग किए जाते समय एंटी-फाइब्रिलाइजिंग प्रभाव भी देखा जो अल्जाइमर जैसी बीमारियों की रक्षा के लिए बहुत आवश्यक है और जो स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र में उभरते भविष्य के अनुप्रयोगों के लिए अवसर पैदा करता है।

 

 

प्रकाशन विवरण :  

वी. गुप्ता, ए. बाबू, एस. के. घोष, जे. मलिक, एच. के. मिश्रा, डी सैनी और डी. मंडल*, रिविजिटिंग δ – पॉलीविनाईलिडीन फ्लोराइड (पीवीडीएफ) आधारित स्वचालित पीजोइलेक्ट्रिक नैनोजेनरेटर फॉर सेल्फ पावर्ड दवाब मापी (प्रेशर मैपिंग) सेंसर , ऐप्लि. फिजिकल. लेट. 2021, 119, 252902   अधिक जानकारी के लिए दीपांकर मंडल ([email protected]) पर संपर्क किया जा सकता है ।  

****

 

एमजी/एएम/एसटी  

अपना सहयोग अवश्य दें।

हमें आपके सहयोग की आवश्यकता है, अपना छोटा सा सहयोग देकर हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करें।

क्लिक करें

Check Also

कोरोना सैम्पल रिपोर्ट अब जल्द मिलेगी – जिला कलक्टर

Description कोरोना सैम्पल रिपोर्ट अब जल्द मिलेगी- जिला कलक्टरजयपुर, 19 जनवरी। जयपुर जिला कलक्टर श्री …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *