fbpx
Breaking News

मई में राजस्थान को 365 मीट्रिक टन आक्सीजन और प्रतिदिन 10 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता

मई में राजस्थान को 365 मीट्रिक टन आक्सीजन और प्रतिदिन 10 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दिल्ली दौरे से लौटने के बाद कहा है कि प्रदेश से गए मंत्री समूह ने कोरोना महामारी की राजस्थान में स्थिति और उसकी प्रदेश की जरुरत के बारे में सबंधित केन्द्रीय मंत्रियों के साथ विस्तार और सकारात्मक माहौल में चर्चा की।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश के स्वायत शासन मंत्री शांति धारीवाल, उर्जा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला और मैंने दिल्ली में सबंधित केन्द्रीय मंत्रियों से कल मुलाकात की थी।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि वर्तमान में आक्सीजन के साथ सबसे अधिक मांग रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरुरत पड़ रही है। उन्होंने कहा कि मंत्री समूह ने केन्द्रीय मंत्रियों से विशेष मांग की है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन राजस्थान के लिए बढ़ाया जाए। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में प्रदेश को प्रतिदिन 10 हजार से अधिक रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता पड़ सकती है इसी के अनुसार केन्द्र की ओर से आवंटन किया जाए। उन्होंने कहा कि आरएमएससीएल की ओर 1 लाख 75 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए बुकिंग की गई है लेकिन अब तक विभाग को इसकी आपूर्ति नहीं मिली है।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि केन्द्रीय मंत्रियों को प्रदेश की वर्तमान आक्सीजन मांग को लेकर भी पूर्ण जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि वर्तमान में राजस्थान को 310 मीट्रिक टन से अधिक मेडिकल आक्सीजन की जरुरत है। जबकि प्रदेश को बमुश्किल करीब 300 मीट्रिक टन आक्सीजन की मिल पा रही है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार प्रतिदिन आक्सीजन की मांग बढ़ रही है उसके अनुसार आने वाले दो-तीन दिन में प्रदेश को 365 मीट्रिक टन से अधिक आक्सीजन की आवश्यकता होगी।

हमें Support करें।

हमें इस पोर्टल को चलाये रखने और आपकी आवाज को प्रशासन तक पहुंचने के लिए आपकी सहायता की जरुरत होती है। इस न्यूज़ पोर्टल को लगातार चलाये रखने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके हमें सब्सक्राइब कर हमें योगदान करें ताकि हम आपके लिए आवाज उठा सकें।

Subscribe

Check Also

अस्पताल में एक सप्ताह से नहीं हो रही कोविड मरीजों की भर्ती।

अजमेर में कोविड शील्ड वैक्सीन नहीं होने से दूसरी डोज लगवाने वाले परेशान। मित्तल अस्पताल …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *